पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Kanpur
  • Jhabhi Baba Bridge Is Set To Be Completed By November, The Bridge Started To Be Built In 2014, Could Not Be Completed Yet, Shuklaganj, COD, Kanpur Cantt, Kanpur

खत्म होगा कानपुर-शुक्लागंज रोड पर जाम:झाड़ी बाबा पुल नवंबर तक पूरा करने की डेडलाइन तय, 2014 में बनना शुरू हुआ पुल, अब तक नहीं हो सका पूरा

कानपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कानपुर से शुक्लागंज को जोड़ने वाला पुराना गंगा पुल बंद होने से कैंट साइड से जाने वालों की संख्या में इजाफा हो गया है। आए दिन जाम लगता है। - Dainik Bhaskar
कानपुर से शुक्लागंज को जोड़ने वाला पुराना गंगा पुल बंद होने से कैंट साइड से जाने वालों की संख्या में इजाफा हो गया है। आए दिन जाम लगता है।

कानपुर स्थित सीओडी पुल लगभग 13 साल में बनकर पूरा हो पाया था। इसकी राह पर कैंट स्थित झाड़ी बाबा पुल बन रहा है। 2014 में बनना शुरू हुआ पुल अब तक पूरा नहीं हो सका है। बुधवार को कमिश्नर डा. राज शेखर ने निरीक्षण कर काम पूरा न होने पर नाराजगी जताई। उन्होंने नवंबर तक हर हाल में पुल का काम पूरा करने के लिए कहा है। इसके साथ ही शुक्लागंज जाने वाले मार्ग को चौड़ा करने की कवायद भी शुरू हो गई है।
सर्विस लेन शुरू की जाए
बुधवार को ​कमिश्नर डॉ. राज शेखर ने कैंट बोर्ड के सीईओ, एसडीएम उन्नाव, परियोजना प्रबंधक सेतु निर्माण निगम समेत अन्य अफसरों के साथ निर्माणाधीन झाड़ी बाबा ओवरब्रिज का कार्य देखा। यहां पर कमिश्नर ने जब ओवरब्रिज निर्माण को लेकर हो रही हद से ज्यादा देरी की वजह पूछी, तो सेतु निर्माण निगम के अफसर बगले झांकते रहे। 44.31 करोड़ की लागत से तैयार होने वाले इस ओवरब्रिज ​के निर्मित भाग में कमिश्नर से तत्काल सर्विस लेन बनाने के निर्देश दिए।
रोजाना लाखों लोग होते हैं परेशान
कानपुर से शुक्लागंज को जोड़ने वाला पुराना गंगा पुल बंद होने से कैंट साइड से जाने वालों की संख्या में इजाफा हो गया है। इसके साथ पुल के निर्माण होने से सर्विस लेन भी पूरी तरह उखड़ चुकी है। बारिश होने से पूरी रोड पर कीचड़ और कीचड़ सूखने के बाद धूल ही धल उड़ती है। इसको देखते हुए तत्काल सर्विस लेन को ठीक करने के लिए कहा गया।
4 मीटर भी रोड चौड़ी नहीं
जाम की समस्या से निपटने में पाया गया कि जो सड़क शुक्लागंज के नवीन पुल तक जा रही है, वह 4 मीटर भी चौड़ी नहीं है। कमिश्नर ने कहा कि पूर्व में रक्षा मंत्रालय की तरफ से उपलब्ध कराई भूमि के अलावा अगर कहीं अन्य भूमि है, तो ओईएफ को उसका प्रस्ताव उपलब्ध कराया जाए। एक सप्ताह में यह प्रस्ताव मांगा गया है। यहां पर सेतु निर्माण निगम अफसरों ने बताया कि कोरोना की वजह से काम में असर पड़ा है, ऐसे में इस साल नवंबर अंत तक यह ओवरब्रिज तैयार हो जाएगा।

खबरें और भी हैं...