पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

नो एंट्री में घुसे ट्रक ने ली दो की जान:पुलिस की मिलीभगत से शहर की सबसे व्यस्त रोड पर नो एंट्री होने के बावजूद घुसा ट्रक

कानपुर19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

शहर में पुलिस की वसूली लोगों के लिए मौत का सामान बनती जा रही है। बुधवार को नो एंट्री में घुसे ट्रक ने दो लोगों की जान ले ली। शहर के सबसे व्यस्त और भीड़ भाड़ वाले इलाके माल रोड पर नो एंट्री में घुसे ट्रक ने बाइक सवार दो लोगों पर ट्रक चढ़ा दिया जिसमें दोनों लोगों की मौके पर ही मौत हो गई।

दरअसल बुधवार शाम 7 बजे कैंट बोर्ड की कर्मचारी उषा देवी अपने भतीजे सौरभ के साथ ऑफिस से घर लौट रही थी। लाल बत्ती होने की वजह से वह लोग सिग्नल पर बाइक रुक दी, तभी नरोना चौराहे की तरफ से नो एंट्री में घुसे रहे ट्रक ने पुलिस वालों से बचने के लिए स्पीड बढ़ा दी और मोटर साइकिल को टक्कर मारते हुए आगे निकल गया। ट्रक से कुचलने की वजह से मौके पर ही दोनों लोगों की मौत हो गई और उषा देवी ट्रक के पिछले टायर में फस गयी। वही ट्रक चालक ट्रक छोड़कर मौके से फरार हो गया। घटना की वजह से माल रोड पर भीषण जाम लग गया।

उषा देवी की फाइल फोटो
उषा देवी की फाइल फोटो

वकीलों ने किया हंगामा...
उषा देवी बहनोई सीनियर वकील है, सूचना मिलने के बाद जब वह घटनास्थल पर पहुंचे तो उषा देवी को ट्रक के पिछले टायर में फस पाया। जिसकी वजह से वह और उनके समर्थक आक्रोशित हो गए और पुलिस वालों से भीड़ गए। उन्होंने आरोप लगाया कि अगर क्रेन समय रहते पहुंच जाती तो उषा की जान बचाई जा सकती थी। जब यह हादसा हुआ तब टूक में सरकारी राशन लदा हुआ था। पुलिस को पहले पूरा ट्रक खली करवाना पड़ा उसके बाद कहीं जा कर उषा देवी की बॉडी को निकला जा सका। घटना के बाद मौके पर कुछ लोगों ने जाम लगाने की भी कोशिश की लेकिन पुलिस की सूझबूझ से ट्रक को साइड करवा कर लोगों को शांत कराया। इसके बाद मृतकों के शव को पोस्टमार्टम के लिए भिजवाने के साथ ट्रक को अपने कब्जे में ले लिया।

पुलिस को पैसा दे शहर में घुसते है ट्रक...
पुलिस को पैसा देकर शहर में आराम से घूमते है ट्रक। एक बार एंट्री का रेट तय है, अगर ट्रक का काम का काम 2 घंटे का है तो उसका दो हजार रुपए दिया जाता है। वहीं अगर इससे ज्यादा समय लगता है तो चार से पांच हज़ार में डील फिक्स होती है।

खबरें और भी हैं...