पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कानपुर के लिए अच्छी खबर:विकास से अछूते शहर में औद्योगिक क्षेत्रों की बदलेगी तस्वीर, नगर निगम 8 करोड़ रुपए से करेगा मेकओवर

कानपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
चौराहों का ब्यूटीफिकेशन भी कराया जाएगा। - Dainik Bhaskar
चौराहों का ब्यूटीफिकेशन भी कराया जाएगा।

औद्योगिक नगरी के नाम से जाना-जाने वाले शहर में औद्योगिक क्षेत्र बदहाली की मार झेल रहे हैं। फजलगंज, दादा नगर, पनकी औद्योगिक क्षेत्र में व्यापारी लंबे समय से सड़कों, नाला निर्माण, स्ट्रीट लाइट को लेकर काफी समय से डिमांड कर रहे थे। उद्योग बंधुओं की मीटिंग में भी कमिश्नर से लेकर डीएम की मीटिंग में भी व्यापारी बदहाली के मुदृदे को प्रमुखता से उठा रहे थे। डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्या तक मामला व्यापारियों ने पहुंचाया। इसके बाद नगर निगम ने औद्योगिक क्षेत्रों को डेवलप करने का प्लान तैयार किया है। 8 करोड़ रुपए के विकास कार्य कराने के लिए टेंडर मांगे गए हैं।

सड़क न होने से डस्ट पॉल्यूशन
इंडस्ट्रियल एरिया में सबसे बड़ा मुद्दा सड़कों के न होने का है। हैवी व्हीकल के गुजरते ही भारी मात्रा में धूल का गुबार उड़ता है, पॉल्यूशन के मामले में कानपुर देश में नंबर-1 है। इसको लेकर प्रदेश सरकार भी काफी गंभीर है। इस गंभीर समस्या को देखते हुए शासन ने पहली बार 75 करोड़ रुपए पॉल्यूशन मद में दिए हैं।

रेड कैटेगिरी में इंडस्ट्रियल एरिया
पॉल्यूशन के चलते कानपुर के औद्योगिक क्षेत्र एनजीटी व पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड की रेड कैटेगिरी में है। इसकी बड़ी वजह ये भी है कि यहां पेड़ों की संख्या भी बेहद कम हो गई है। जबकि औद्योगिक क्षेत्र में ग्रीन एरिया 33 परसेंट से कम नहीं होना चाहिए।

नगर निगम चीफ इंजीनयर एसके सिंह ने बताया कि 13 बड़े विकास कार्य कराने के लिए टेंडर कॉल किए गए हैं। इसमें सबसे ज्यादा टेंडर सड़कों के हैं। कोरोना के चलते कार्य लेट हो गए हैं। सभी कार्यों को जल्द कराया जाएगा। चौराहों का ब्यूटीफिकेशन भी कराया जाएगा। फैसिलिटेशन फॉर इंडस्ट्रिज एंड ट्रेडर्स एसोसिएशन फीटा के महासचिव उमंग अग्रवाल के मुताबिक उद्योग बंधु की मीटिंग में लगातर बदहाली के मुद्दों का उठाया है। इसके बावजूद जितने कार्य होने चाहिए, उतने नहीं हो रहे।

ये होने हैं विकास कार्य

  • फजलगंज इंडस्ट्रियल एरिया में सड़कों का निर्माण- 75 लाख
  • दादानगर मेन रोड से नाला निर्माण कार्य- 59 लाख
  • पनकी साइट-1 से आरसीसी नाला निर्माण- 1.37 करोड़
  • पनकी साइट-2 व 3 में पेड़ लगाने व डिवाइडर निर्माण- 58 लाख
  • पनकी साइट-2 में फुटपाथ, नाला निर्माण समेत अन्य कार्य- 2.18 करोड़
खबरें और भी हैं...