पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Kanpur
  • Now The Managers Of Self Finance College Will Have To Ban On Admission In The University, Tell Their Problem To The Public Relations Office

सीएसजेएमयू के वीसी का आदेश:अब सेल्फ फाइनेंस कॉलेज के प्रबंधकों का यूनिवर्सिटी प्रवेश पर बैन, जनसंपर्क कार्यालय से अपनी समस्या बतानी होगी

कानपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
फाइल फोटो - Dainik Bhaskar
फाइल फोटो

छत्रपति शाहू जी महाराज विश्वविद्यालय (सीएसजेएमयू) प्रशासन ने सेल्फ फाइनेंस कॉलेज के प्रबंधकों के प्रवेश पर बैन लगा दिया है। विवि की ओर से जारी पत्र में साफ कहा गया है कि किसी भी स्थिति में प्रबंधकों को विवि आने की आवश्यकता नहीं है, जब तक उन्हें पत्र भेजकर बुलाया न जाए। समस्या होने पर प्राचार्य द्वारा अधिकृत कर्मचारी विवि आएगा। इस आदेश के बाद से सेल्फ फाइनेंस कॉलेज के प्रबंधकों के बीच काफी रोष है।

नए बदलाव किए जा रहे है...
सीएसजेएमयू में नए कुलपति आने के बाद यूनिवर्सिटी में लगातार पुरानी व्यवस्थाओं में बदलाव किए जा रहा है। इसी क्रम में अब प्रबंधकों पर रोक लगा दी गई है। विवि प्रशासन का कहना है कि अक्सर विवि के विभिन्न कार्यालयों में प्रबंधक मौजूद रहते हैं, जो उचित नहीं लगता है। इसलिए यह फैसला लिया गया है। रजिस्ट्रार डॉ. अनिल कुमार यादव ने बताया कि समस्या आने पर कॉलेज का कर्मी अधिकार पत्र लेकर विवि के जनसंपर्क कार्यालय में सुबह 10 से 11 बजे के बीच कार्य संबंधी पत्र भरकर देगा। विवि जल्द से जल्द समस्या का निस्तारण करेगा। अत्यधिक जरूरी होने पर ही महाविद्यालय कर्मी जनसंपर्क कार्यालय के काउंटर स्टाफ की मदद से संबंधित अधिकारी से बात कर सकेगा। किसी भी महाविद्यालय का कर्मचारी प्रशासनिक भवन या अन्य कार्यालयों में बिना अनुमति प्रवेश नहीं करेगा।

ऑनलाइन ग्रीवांस पोर्टल बनवाने का दिया सुझाव...
उप्र सेल्फ फाइनेंस कॉलेज एसोसिएशन के अध्यक्ष विनय त्रिवेदी ने कहा कि विवि की ओर से पत्र प्राप्त हुआ है। इस आदेश से सभी प्रबंधकों को कष्ट पहुंचा है। अगर समस्या खत्म करने के लिए जनसंपर्क कार्यालय बनाया गया है और प्रबंधकों पर रोक लगाई गई है तो इससे अच्छा है कि ऑनलाइन ग्रीवांस पोर्टल बना दें और समस्या को लेकर की जा रही कार्रवाई की भी अपडेट जानकारी पोर्टल पर मिलती रहे। जिससे किसी भी कॉलेज कर्मचारी को विवि आने की जरूरत न पड़े।

खबरें और भी हैं...