पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कानपुर में सैन्य अधिकारी:सैन्य अधिकारी करेंगे पीएचडी, उद्यमियों को और ऊंचाई देगा IIT: छात्र-छात्राओं से मिलने लेफ्टिनेंट जनरल राज शुक्ला ने राष्ट्र पहले का दिया मंत्र

कानपुर8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
उन्होंने कहा कि राष्ट्र प्रथम के सामूहिक लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए सबको साथ आना होगा। - Dainik Bhaskar
उन्होंने कहा कि राष्ट्र प्रथम के सामूहिक लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए सबको साथ आना होगा।

राष्ट्रीय सुरक्षा में आईआईटी जैसे संस्थानों की महत्वपूर्ण भूमिका रही है। सुरक्षा में अब तकनीक का इस्तेमाल बेहतर परिणाम देता है। यह बात रविवार को आईआईटी में चल रहे इन्स्परेशनल सीरीज में लेफ्टिनेंट जनरल राज शुक्ला ने कही। उन्होंने छात्र-छात्राओं को अपने अनुभवों के बारे में जानकारी दी। लेफ्टिनेंट जनरल राज शुक्ला ने आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के महत्व के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि, रणनीति का मुकाबला करने के लिए, आईआईटी अत्याधुनिक तकनीक इनवेशन और बिज़नेस करने के इस प्रयास के लिए महत्वपूर्ण केंद्र बना हुआ है। उन्होंने आगे कहा, हाल के दिनों में प्रौद्योगिकी का प्रभाव काफी विध्वंसकारी रहा है। अतीत में सैन्य संस्थानों ने रक्षा उन्नत अनुसंधान परियोजना एजेंसी (DARPA) में प्रौद्योगिकी के निवेश का गठन किया, जिससे इंटरनेट चलाया गया। अब तकनीक, परिचालन चक्र चला रही है। एयरक्राफ्ट कैरियर में सिस्टम चलाने के लिए 100 ऑपरेटर की आवश्यकता होती थी लेकिन वर्तमान में आपके पास ड्रोन के रूप में 100 सिस्टम चलाने वाला एक ऑपरेटर है।

राष्ट्र पहले के भाव से काम करें

प्रोफेसरों और छात्रों के सवालों के जवाब में, सेना कमांडर ने आईआईटी कानपुर के लिए करोड़ों की परियोजनाओं पर विचार करने और नई नीति के अनुसार आने वाली बाधाओं को दूर करने का वादा किया। उन्होंने बेहतर कल के लिए नागरिक सैन्य संलयन पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि राष्ट्र प्रथम के सामूहिक लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए वैज्ञानिकों, सैनिकों, प्रौद्योगिकीविदों, सताधारियों, कॉरपोरेट्स, उज्जवल भविष्य की कल्पना करने वालों और स्टार्टअप सभी को एक साथ आना होगा।

आपको बता दें यह बातचीत अपनी तरह की पहली थी जब रक्षा/उपयोगकर्ता के शीर्ष निर्णय लेने वाले प्राधिकरण ने अनुसंधान और शिक्षाविदों की मदद के लिए इतनी बड़ी पहल की। इसके अलावा सेना कमांडर ने आईआईटी के विभिन्न क्षेत्रों में पीएचडी के लिए और अधिक रक्षा अधिकारियों को भेजने पर भी विचार किया।