• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Kanpur
  • Manega Bal Gopal's Birth Anniversary With Huge Drums And Conch Shells, Devotees Will Not Get Entry In The Temple, Will Be Seen Online Or On LED, Iskcon Kanpur, JK Temple, Krishna, Janmashtami, Shivala, Prayag Narayan Mandir, Kanpur

116 साल पुराने मंदिर में कन्हैया का पूजन शुरू:कानपुर में शंखनाद और नगाड़ों के साथ मनेगा जन्मोत्सव,रात 10 से सुबह 6 बजे तक कर्फ्यू में छूट रहेगी, ऑनलाइन कर सकेंगे दर्शन

कानपुर10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जेके मंदिर के बाहर एलईडी स्क्रीन पर भगवान के  दर्शन कराए जाएंगे। - Dainik Bhaskar
जेके मंदिर के बाहर एलईडी स्क्रीन पर भगवान के दर्शन कराए जाएंगे।

कानपुर में भगवान श्रीकृष्ण के जन्मोत्सव की तैयारियों अपने अंतिम चरणों में पहुंच गई है। कोरोना के चलते इस बार सार्वजनिक आयोजन नहीं हो रहे हैं। यहां के मंदिरों में प्रवेश नहीं मिलेगा। विश्व विख्यात जेके मंदिर के बाहर एलईडी स्क्रीन लगाई गई है। इस पर पूरे कार्यक्रम का प्रसारण किया जाएगा। इसके अलावा बिठूर स्थित इस्कॉन टेंपल में कान्हा के ऑनलाइन दर्शन कराए जाएंगे।

रात्रि कर्फ्यू में आज छूट

वहीं प्राचीन दक्षिण भारतीय मंदिर महाराज प्रयाग नारायण शिवाला में श्री कृष्ण जन्माष्टमी उत्सव परंपरागत रूप से मनाया जा रहा है। जन्माष्टमी के मौके पर डीएम आलोक तिवारी ने बताया कि रात 10 बजे से सुबह 6 बजे तक जारी रात्रि कर्फ्यू में आज छूट रहेगी।

दक्षिण भारतीय मंदिर महाराज प्रयाग नारायण शिवाला में पूजन शुरू।
दक्षिण भारतीय मंदिर महाराज प्रयाग नारायण शिवाला में पूजन शुरू।

शुरू हुआ पूजन-अर्चन

कानपुर के मंदिरों में सुबह से पूजन-अर्चन शुरू हो गया है। प्राचीन महाराज प्रयाग नारायण मंदिर शिवाला में स्थापित भगवान लक्ष्मी नारायण सहित सभी विग्रह का नारद पंच रात्रि विधि से पूजन अर्चन किया गया। तिरु मंजन एवं स्नान पूजन में विग्रह को दिव्य जल से स्नान कराया गया। वहीं मंदिर परिसर में कोविड गाइडलाइन का पालन करते हुए सीमित भक्तों को प्रवेश दिया गया। वहीं इस्कान मंदिर में भी सुबह से हरे कृष्ण हरे रामा की गूंज सुनाई दे रही है।

गुलाब जल और गंगाजल से स्नान
161 साल पुराने प्राचीन दक्षिण भारतीय मंदिर महाराज प्रयाग नारायण शिवाला में श्री कृष्ण जन्माष्टमी उत्सव परंपरागत रूप से शुरू हो गया है। सुबह में मंदिर के गर्भ ग्रह में स्थापित विग्रह को दूध, दही, हल्दी, चंदन, गुलाब जल और गंगाजल से स्नान कराया गया।

मंदिर के व्यास पंडित करुणा शंकर प्रधान अर्चक आचार्य सूरज देव अर्पित अश्वनी और मंदिर अध्यक्ष मुकुल विजय नारायण तिवारी प्रबंधक अभिनव नारायण तिवारी और वैष्णव भक्त राघव तिवारी ने वैदिक मंत्रोच्चारण के बीच पूजन किया।

सीमित भक्तों को प्रवेश
मंदिर संरक्षक मुकुल विजय नारायण तिवारी ने बताया कि रात्रि 12:00 बजे मंदिर में रखे ऐतिहासिक विशाल नगाड़ों तथा शंखनाद के बीच नंदलाला का जन्मोत्सव का आयोजन किया जाएगा। उन्होंने बताया कि प्रतिवर्ष मंदिर में जन्माष्टमी का पर्व वैदिक रीति रिवाज से मनाया जाता रहा है जिसमें हजारों की संख्या में भक्तों दर्शन के लिए आते हैं। इस बार संक्रमण के चलते आयोजन को सीमित किया गया है। सीमित भक्तों को ही रात्रि पूजन में शामिल किया जाएगा।

छठी उत्सव तक जेके मंदिर में प्रवेश नहीं
जन्माष्टमी पर्व के चलते जेके मंदिर में मनमोहक सजावट की गई है। रविवार रात से ही सतरंगी रोशनी से मंदिर परिसर जगमग नजर आया और अनोखी छटा बिखेर रहा था। कानपुर में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी का पर्व विशेष रूप से जेके मंदिर में मनाया जाता है। हालांकि इस बार कोरोना संक्रमण के चलते भक्तों को प्रवेश नहीं मिलेगा। मंदिर के मुख्य द्वारों पर एलईडी लगाई जाएगी, जिसपर सजीव प्रसारण ही भक्त देख सकेंगे। कोरोना संक्रमण को देखते हुए मंदिर प्रबंधन ने मंदिर में भगवान की छठी उत्सव तक प्रवेश पर पाबंदी लगा रखी है।

बिठूर स्थित इस्कान मंदिर में की गई भव्य सजावट।
बिठूर स्थित इस्कान मंदिर में की गई भव्य सजावट।

इस्कान मंदिर में ऑनलाइन दर्शन
इस्कान मंदिर में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर्व के लिए खास तैयारी की गई हैं। यहां पर 125 चांदी के कलश से राधा-माधव का अभिषेक करने की तैयारी है। इसका लाइव प्रसारण इंटरनेट मीडिया के विभिन्न माध्यमों से किया जाएगा। यूट्यूब, फेसबुक आदि पर मंदिर के आफिशियल चैनल पर दर्शन-पूजन किये जा सकते हैं। मीडिया प्रभारी कुर्मावतार दास ने बताया कि राधा-माधव का श्रृंगार और महाआरती के साथ 1008 पकवानों का भोग लगाया जाएगा।

इस्कान मंदिर में ऑनलाइन दर्शन के लिए वेबलिंक
https://youtube.com/c/SriSriRadhaMadhavMandirISKCONKANPUROfficial

खबरें और भी हैं...