• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Kanpur
  • Manish Murder Case: SIT Has Been Recording Statements Since Last 8 Hours, Statements Recorded By Both Friends Of Manish And Wife, Both Friends Are Afraid To Go To Gorakhpur, Police Commissioner Promised To Provide Security Kanpur

मनीष गुप्ता हत्याकांड:एसआईटी पिछले 8 घंटे से दर्ज करा रही है बयान, मनीष के दोनो दोस्तो और पत्नी के दर्ज हुई बयान, दोनों दोस्त गोरखपुर जाने से रहे है डर, पुलिस कमिश्नर ने सुरक्षा देने का किया वादा

कानपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
एसआईटी जांच से मिले ब्रेक के समय मृत मनीष की पत्नी मीनाक्षी के साथ प्रदीप और हरबीर सिंह - Dainik Bhaskar
एसआईटी जांच से मिले ब्रेक के समय मृत मनीष की पत्नी मीनाक्षी के साथ प्रदीप और हरबीर सिंह

गोरखपुर में पुलिस की पिटाई से मौत का शिकार बने मनीष गुप्ता के मामले में एसआईटी ने मृतक के घर पहुंचकर बयान दर्ज किए। एसआईटी की टीम ने मृतक की पत्नी और मनीष के दो दोस्तों जो घटना के वक्त मौके पर मौजूद थे, उनके बयान दर्ज किए। पिछले करीब 8 घंटे से एसआईटी की टीम ने मृतक के घर पर डेरा जमाए है और हर बयान की बारीकी से जांच की जा रही है। इस दौरान एसआईटी ने गवाहों से घटना के बारे में जानकारी ली और घटना से जुड़े सवाल पूछे। इस दौरान पुलिस कमिश्नर कानपुर असीम अरुण भी मृतक के परिवार से मिलने के लिए पहुंचे।

मीनाक्षी ने दिया 16 पन्नों का बयान...
सूत्रों की मानें तो एसआईटी की पूछताछ में मीनाक्षी ने 16 पन्नों का बयान दर्ज करवाया है। बयान दर्ज कराते हुए कई बार मीनाक्षी बीच बीच में रोई भी। एसआईटी टीम की मेंबर डीसीपी रवीना त्यागी ने उन्हें संभाला और उन्हें बिना डरे अपना बयान देने के लिए कहा। अपने बयान में मिनाक्षी ने बताया कि कैसे गोरखपुर पुलिस ने उनके ऊपर एफआईआर दर्ज न कराने का दबाव बनाया और गोरखपुर से निकलते वक्त भी साथ में मौजूद पुलिस वालों ने कैसे मीडिया और अन्य नेताओं से दूर रहने को कहा था।

मृतक मनीष के दोनों साथी है डरे हुए
एसआईटी द्वारा दर्ज किये गए दोनों साथियों प्रदीप और हरबीर सिंह के बयान को लेकर पुलिस कमिश्नर असीम अरुण ने भी माना की वह लोग डरे हुए है। असीम अरुण ने बताया, उन्होंने दोनों साथियों को समझाया है, कि उन्हें किसी भी तरह से डरने की ज़रूरत नहीं है। पुलिस उनकी मदद के लिए हमेशा खड़ी है। साथ ही उन्हें गोरखपुर जाने से डरना नहीं चाहिए, उन्होंने कहा कि उनकी सुरक्षा का पूरा इंतजाम किया जायेगा। कमिश्नर ने एसआईटी जांच के बारे में बात करने से साफ़ मना कर दिया।

गोरखपुर जाने से डर रहे है दोनों साथी...
मृत मनीष के परिवार वाले से जब बात करनी चाही तो वह लोग भी थोड़े डरे और सहमे दिखे। सूत्रों की माने तो मृत मनीष के दोनों साथी जब अपना बयान दर्ज करा रहे थे तब कई बार उन्होंने अपना बयान बदला। दोनों कुछ घबराएं हुए थे, जब पुलिस कमिशनर ने उन्हें कहा की किसी से डरने की ज़रुरत नहीं है तब जाकर उन दोनों ने एसआईटी के सामने बयान दर्ज करवाया। वुधवार देर शाम तक एसआईटी की टीम मीनाक्षी के घर पर बयान दर्ज करती रही।

जल्द होगी गिरफ़्तारी...
पुलिस कमिश्नर ने मृतक के परिजनों को आरोपियों की जल्द गिरफ्तारी होने का भरोसा दिया। मृतक की पत्नी मीनाक्षी का कहना है कि पुलिस कमिश्नर ने उनसे कहा है बयान दर्ज न होने की वजह से मामले में लेटलतीफी हो रही थी। अब जब बयान दर्ज हो गए हैं तब पुलिस की जांच और तेजी पकड़ेगी।

खबरें और भी हैं...