• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Kanpur
  • MLA Bhagwati Sagar Said... Policemen Have Killed A Person From Our Dalit Community, Save The Policemen Who Are Speaking SP... There Will Be No Compromise Under FIR 302

पुलिस ने BJP विधायक की भी नहीं सुनी:कानपुर में बुजुर्ग की हत्या पर भगवती सागर बोले- पुलिस वालों ने कराई दलित भाई की हत्या

कानपुर9 महीने पहले

'पुलिस ने हमारे दलित समाज के व्यक्ति की हत्या करवाई है...। एसपी कह रहे हैं कि दोषी पुलिसकर्मियों को बचाओ...। पुलिस से अब कोई उम्मीद नहीं है। धारा 302 के नीचे कोई कंप्रोमाइज नहीं होगा...। हमारी सरकार को तुम लोग बदनाम करना चाहते हो। जिसका आदमी मरा, उसी को पुलिस फंसा रही है।' यह आरोप कोई आम आदमी नहीं लगा रहा, बल्कि ये अपनी विधानसभा में हत्याकांड के बाद मौके पर पहुंचे भाजपा विधायक भगवती सागर के आरोप हैं। जब उनकी बात भी पुलिस अफसरों ने नहीं सुनी, तो नाराज होकर चले गए।

विधायक भगवती सागर की पुलिस अफसरों ने नहीं सुनी तो वह नाराज होकर गांव से चले गए।
विधायक भगवती सागर की पुलिस अफसरों ने नहीं सुनी तो वह नाराज होकर गांव से चले गए।

पूरे गांव ने दी गवाही- हत्याकांड के दौरान पुलिस थी मौजूद
चौबेपुर के पनऊपुरवा में पुलिस के सामने दलित आनंद कुमार कुरील की पीट-पीट कर हत्या कर दी गई थी। इस मामले में क्षेत्रीय विधायक भगवती सागर भी मौके पर पहुंचे। उन्होंने पीड़ित परिवार का हालचाल लिया। इसके बाद गांव में बैठकर मामले को समझा। गांव वालों ने कहा कि हत्याकांड से पहले चौबेपुर थाने के दरोगा और सिपाही आरोपी के घर पार्टी कर रहे थे। पुलिस वालों की शह पर ही दबंगों ने हत्याकांड किया।

दरोगा पर एफआईआर नहीं दर्ज कर रहे अफसर

जब विधायक मौके पर पहुंचे, तब एसपी आउटर अष्टभुजा प्रसाद समेत अन्य पुलिस अफसर भी मौजूद थे। विधायक ने हत्याकांड के दोषी पुलिसकर्मियों पर एफआईआर दर्ज कराने की मांग रखी, लेकिन एसपी आउटर ने उनकी नहीं सुनी। इस पर विधायक वहां से उठकर चले गए। उन्होंने आईजी और एडीजी से मिलकर मामले में कार्रवाई की मांग की है।
जांच के नाम पर IG और ADG साधे रहे चुप्पी
चौबेपुर के दो दरोगा और सिपाहियों के सामने दलित बुजुर्ग की पीट-पीट कर हत्या कर दी गई। मामले में वरिष्ठ अफसरों ने दोषी पुलिसकर्मियों को लाइन हाजिर करने की बात कहकर पल्ला झाड़ लिया। किसी ने भी दोषी पुलिसकर्मियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने का आदेश नहीं दिया। आईजी रेंज मोहित अग्रवाल और एडीजी भानु भास्कर ने मौके पर जाना ही उचित नहीं समझा और न ही कोई एक्शन भी नहीं लिया। सिर्फ जांच कराने की बात कही है।

खबरें और भी हैं...