टॉयलेट में जन्मा बच्चा, मौत:कानपुर के हैलट अस्पताल की घटना, नवजात का शव सीट में फंसा, मां की हालत गंभीर

कानपुर7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पति मोबीन का आरोप है कि वार्ड नंबर सात के बेड नंबर 42 पर उसकी पत्नी को भर्ती किया गया था, लेकिन किसी डॉक्टर ने उसका इलाज नहीं किया। - Dainik Bhaskar
पति मोबीन का आरोप है कि वार्ड नंबर सात के बेड नंबर 42 पर उसकी पत्नी को भर्ती किया गया था, लेकिन किसी डॉक्टर ने उसका इलाज नहीं किया।

कानपुर के हैलट हॉस्पिटल में बुधवार रात को महिला ने टॉयलेट सीट पर नवजात को जन्म दिया। इस दौरान नवजात का सिर साइफन में फंस गया। अस्पताल के कर्मचारियों ने टॉयलेट सीट तोड़कर उसे बाहर निकाला। इतनी देर में उसकी मौत हो गई। मां की हालत गंभीर बनी हुई है।

बच्चेदानी फटने से सीट में फंसा नवजात

मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल डॉ. संजय काला ने बताया कि शिवराजपुर के कंठीपुर के रहने वाले हसीन जहां को तेज बुखार और कम प्लेटलेट्स था। उसे बुधवार देर रात हैलट इमरजेंसी में भर्ती कराया गया था। वह 32 सप्ताह की गर्भवती भी थी। उसके शरीर में 4 पॉइंट हीमोग्लोबिन था। वह रात को करीब 2:30 बजे बाथरूम गई। उसी समय महिला की बच्चेदानी फट गई और नवजात सीट में फंस गया। महिला का इलाज किया जा रहा है। ड्यूटी पर तैनात डॉक्टर से जानकारी ली जा रही है। महिला अब रिकवर कर रही है। उसको प्लेटलेट्स चढ़ाई जा रही है।

मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल डॉ. संजय काला ने बताया कि शिवराजपुर के कंठीपुर के रहने वाले हसीन जहां को तेज बुखार और कम प्लेटलेटस था।
मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल डॉ. संजय काला ने बताया कि शिवराजपुर के कंठीपुर के रहने वाले हसीन जहां को तेज बुखार और कम प्लेटलेटस था।

अस्पताल पर लापरवाही का आरोप

पति मोबीन का आरोप है कि वार्ड नंबर सात के बेड नंबर 42 पर उसकी पत्नी को भर्ती किया गया था लेकिन किसी डॉक्टर ने उसका इलाज नहीं किया। ड्यूटी पर तैनात एक महिला जूनियर डॉक्टर से रिक्वेस्ट करने पर उसको कहा गया कि यह गायनी का केस है।

डॉक्टर जल्द ही इलाज के लिए आएगी। अचानक तेज दर्द से हसीन जहां तड़पने लगी। उसे टॉयलेट ले जाया गया। सीट पर डिलीवरी हो गई। बच्चा सीट में फंस गया। रात में कर्मचारियों ने सीट तोड़कर बच्चे का शव निकाला। उसके बाद परिजन शव लेकर घर चले गए।

दर्द से हसीन जहां तड़पने लगी। उसे टॉयलेट ले जाया गया। सीट पर डिलीवरी हो गई।
दर्द से हसीन जहां तड़पने लगी। उसे टॉयलेट ले जाया गया। सीट पर डिलीवरी हो गई।
खबरें और भी हैं...