मिठास-2022 में लगेगी चीनी व गुड़ की प्रदर्शनी:11 जनवरी को राष्ट्रीय शर्करा संस्थान में विशेषज्ञ करेंगे चीनी की मिठास बढ़ाने पर मंथन

कानपुर5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
राष्ट्रीय शर्करा संस्थान - Dainik Bhaskar
राष्ट्रीय शर्करा संस्थान

लोगों का मानना है कि डायबिटीज, दांत खराब होना, हाइपर टेंशन, वजन बढ़ना और बच्चों में उत्तेजना बढ़ना जैसी बीमारियों का मुख्य कारण चीनी नहीं है। इसको लेकर राष्ट्रीय शर्करा संस्थान में देश के विशेषज्ञ मंथन करेंगे। संस्थान की ओर से 11 जनवरी को चीनी एवं स्वास्थ्य मिथक और हकीकत विषय पर एक दिवसीय राष्ट्रीय सम्मेलन करने जा रहा है। जिसमें वर्ल्ड शुगर रिसर्च आर्गेनाइजेशन की डायरेक्टर जनरल एनी डेनी, इंटरनेशनल शुगर जनरल लंदन के संपादक अरविंद, अमेरिकन शुगर रिफाइनरी कनाडा के कंसल्टेंट अहमद वावडा समेत दो न्यूट्रिशनिस्ट और एक डायबिटीज स्पेशलिस्ट मंथन करेंगे। यह जानकारी राष्ट्रीय शर्करा संस्थान के निदेशक प्रो नरेंद्र मोहन ने मंगलवार को प्रेसवार्ता कर दी।

राष्ट्रीय शर्करा संस्थान के निदेशक प्रो नरेंद्र मोहन जानकारी देते हुए
राष्ट्रीय शर्करा संस्थान के निदेशक प्रो नरेंद्र मोहन जानकारी देते हुए

मिठास-2022 में चीनी व गुड़ से तैयार उत्पाद की प्रदर्शनी लगाई जाएगी...
प्रो नरेंद्र मोहन ने बताया, उद्घाटन खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्रालय के सचिव सुधांशु पांडेय कर सकते है। इस मौके पर केंद्रीय राज्यमंत्री साध्वी निरंजन ज्योति के भी रहने की उम्मीद है। सम्मेलन के साथ एक एक्सपो मिठास-2022 भी लगाया जाएगा, जिसमें विभिन्न इंडस्ट्री चीनी के विभिन्न स्वरूप व गुड़ से तैयार उत्पाद का प्रदर्शन करेंगी। इसमें उप्र सरकार का भी एक स्टॉल होगा, जिसमें निर्यात किए जाने वाले गुड़ के बारे में जानकारी दी जाएगी। संस्थान पोस्टर के माध्यम से चीनी व गुड़ स्वास्थ्य के लिए कितना जरूरी है, के बारे में जानकारी देगा।

कंपनियां आर्टिफिशियल मिठास का प्रयोग कर रही है...
प्रो नरेंद्र मोहन ने आगे बताया, देश में विभिन्न कंपनियां सिर्फ चीनी के नुकसान को गिना रही है। यह कंपनियां अपने प्रोडक्ट्स में आर्टिफिशियल मिठास का अधिक प्रयोग पर जोर दे रही हैं। लेकिन ये आर्टिफिशियल मिठास चीनी से ज्यादा घातक है यह बात यह कंपनियां नहीं बता रही है। उन्होंने चीनी के विकल्प के रूप में प्रयोग किए जा रहे चीजों पर भी शोध करने पर जोर दिया। एक्सपो में गुड़ की चाय, ताजे गन्ने का रस, गन्ने के रस से बनी खीर, गुड़ पर आधारित बेकरी उत्पादों को बिक्री के लिए भी रखा जाएगा।