सीएसए रैगिंग मामला, 18 छात्रों पर कार्रवाई, एक निष्कासित:21 नवंबर को आरएसआरपी हॉस्टल के सीनियर छात्रों ने तिलक छात्रावास के जूनियर को था पीटा

कानपुर10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
चंद्रशेखर आजाद कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय - Dainik Bhaskar
चंद्रशेखर आजाद कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय

चंद्रशेखर आजाद कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय में 21 नवंबर की रात लगभग 01.30 बजे हुए रैगिंग के मामले में विवि प्रशासन ने 19 छात्रों पर कार्रवाई की है। डीएसडब्ल्यू डॉ आरपी सिंह के मुताबिक जो जांच में दोषी पाए जाने वाले एक एक छात्र हमेशा के लिए विवि से निष्कासित कर दिया गया है। वहीं चार अन्य छात्रों को एक साल के लिए छात्रावास और शैक्षणिक सत्र से निष्कासित कर प्रति छात्र 10 हजार का फाइन लगाया गया है। चार छात्रों को छात्रावास से एक साल के लिए निष्कासित करने के साथ प्रति छात्र पांच हजार फाइन और नौ छात्रों पर 2500 रुपए फाइन लगाने के साथ भविष्य में संदिग्ध गतिविधि में लिप्त पाए जाने पर निष्कासित करने की चेतावनी दी गई है।

क्या था पूरा मामला...
आपको बता दें कि 21 नवंबर की रात आरएसआरपी छात्रावास के सीनियर छात्रों ने तिलक छात्रावास में जाकर जूनियर छात्रों को रैगिंग करने के विरोध में पीटा था, जिसमें एक छात्र का कान फट गया था। विवि प्रशासन ने जांच कमेटी बनाकर मामले की जांच कराई थी, जिसकी रिपोर्ट पर छात्रों पर शुक्रवार को कार्रवाई हुई है।

इन पर हुई कार्रवाई

विश्वविद्यालय से निष्कासित - अनिकेत पाल उर्फ करण पाल, बीएससी (उद्यान) तृतीय सेमेस्टर

एक साल के लिए छात्रावास और शैक्षणिक सत्र से निष्कासित और 10 हजार फाइन - अंकुश कुशवाहा बीएससी (उद्यान) तृतीय सेमेस्टर, सूरज वर्मा बीएससी (कृषि) तृतीय सेमेस्टर, हर्षदीप बीएससी (वानिकी) तृतीय सेमेस्टर और ऋषभ शर्मा बीएससी (उद्यान) तृतीय सेमेस्टर।

एक साल के लिए छात्रावास से निष्कासित और प्रति छात्र पांच हजार फाइन - अंकित पाल बीएससी (कृषि) तृतीय सेमेस्टर, अजय पाल बीएससी (वानिकी) तृतीय सेमेस्टर, भानु प्रताप बीएससी (वानिकी) तृतीय सेमेस्टर और अक्षय प्रताप सिंह बीएससी (वानिकी) तृतीय सेमेस्टर।

2500 फाइन और संदिग्ध गतिविधि करने पर निष्कासित करने की चेतावनी - शिव शंकर, आकाश कुमार वर्मा, गगन (बीएससी वानिकी तृतीय सेमेस्टर), सौरभ उपाध्याय, अभय प्रताप मिश्रा, उत्कर्ष विश्नोई, हरि शंकर पटेल, अमन कुमार शर्मा और गौरव कुमार (बीएससी कृषि तृतीय सेमेस्टर)।