• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Kanpur
  • Paddy Husk Was Being Mixed In Chili And Such Harmful Chemicals Which Increase The Heart Beat And Make The Body Zero, Food And Safety Department, Kashmiri Mirch, BP, HeartBeat, IMA, Food License, Kanpur

कानपुर... कश्मीरी मिर्च में ऐसी मिलावट जो जान ले ले:मिर्च में मिलाई जा रही थी धान की भूसी और ऐसे हानिकारक केमिकल जो हार्ट बीट बढ़ाने के साथ बॉडी को कर दें शून्य

कानपुर19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
फैक्ट्री से लाखों की मात्रा में बरामद किए गए नकली कश्मीरी मिर्च पाउडर के डिब्बे। - Dainik Bhaskar
फैक्ट्री से लाखों की मात्रा में बरामद किए गए नकली कश्मीरी मिर्च पाउडर के डिब्बे।

मिलावट करने वाले लोगों की जान से इस कदर खेल रहे हैं कि आप धीरे-धीरे मौत की नींद सो जाएंगे। कानपुर में कश्मीरी मिर्च को तैयार करने के लिए ऐसे हानिकारक केमिकल मिलाए जा रहे थे, जो बॉडी के लिए बेहद खतरनाक हैं। गुरुवार देर रात चली कार्रवाई में यशोदा नगर स्थित फैक्ट्री से 20 कुंतल मिलावटी कश्मीरी मिर्च पकड़ी गई है। पुलिस और फूड सेफ्टी डिपार्टमेंट ने एक साथ छापेमारी कर कार्रवाई की है।

ये हानिकारक केमिकल मिले
कश्मीरी मिर्च में धान की भूसी के साथ मोनोसोडियम ग्लूटामेट और साइट्रिक एसिड (टेस्ट बढ़ाने के लिए) के लिए मिलाए जाते थे। इसको लाल करने के लिए नॉन एडिबल (अखाद्य पदार्थ) का यूज किया जा रहा था। इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) के डा. प्रवीण कटियार ने बताया कि दोनों केमिकल बॉडी के लिए काफी नुकसानदायक हैं। लंबे इस्तेमाल में बॉडी बीपी बढ़ना, हार्टबीट बढ़ना, चेस्ट में पेन और शून्यता का शिकार बनाते हैं। ज्यादातर खाद्य पदार्थों को बनाने में कश्मीरी मिर्च का यूज किया जाता है।

डिब्बे में नहीं छापते थे एड्रेस
फूड एंड सेफ्टी डिपार्टमेंट के अभिहित अधिकारी डा. विजय प्रताप सिंह के मुताबिक यशोदा नगर स्थित शरद ट्रेडिंग के नाम से फैक्ट्री संचालित हो रही थी। ये कश्मीरी मिर्च के बड़े ब्रांड महाराजा कश्मीरी पाउडर तथा स्वस्तिक कश्मीरी पाउडर के नाम से बेच रहे थे।

फर्म के मालिक शरद गुप्ता व अविनाश कुमार गुप्ता द्वारा प्रदेश के कई हिस्सों में सप्लाई किया जाता था। यहां तैयार किए गए किसी भी डिब्बे में एड्रेस नहीं डाला जाता था। ऐसे में इनकी पकड़ काफी मुश्किलों से हो पाई है।

कस्तूरी मेथी की रिपैकिंग
फैक्ट्री के मालिक ने होलसेल और रिटेल बिक्री का खाद्य लाइसेंस लिया था, लेकिन मैन्युफैक्चिरंग का लाइसेंस नहीं लिया था। यहां दलिया और कस्तूरी मेथी में भी मिलावट कर रिपैकिंग कर मार्केट में बेचा जा रहा था। देर रात तक चली कार्रवाई में विभाग ने 8 सैंपल भरे हैं। वहीं नौबस्ता थाने में पुलिस द्वारा मुकदमा भी दर्ज कराया गया है।

खबरें और भी हैं...