• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Kanpur
  • People Are Not Getting Treatment Even On The 11th Day, Prescriptions Not Made In OPD, Increasing Anger Among Doctors, Hallet Hospital, OPD, GSVM Medical College, Doctors Strike, NEET PG, Kanpur

कानपुर... इलाज के लिए भटक रहे मरीज:11वें दिन भी लोगों को नहीं मिल रहा इलाज, ओपीडी में नहीं बने पर्चे, डॉक्टर और मरीजों में बढ़ रहा गुस्सा

कानपुर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
ओपीडी में करीब 4 से 5 पर्चे बनने के बाद काउंटर को बंद करा दिया गया। - Dainik Bhaskar
ओपीडी में करीब 4 से 5 पर्चे बनने के बाद काउंटर को बंद करा दिया गया।

मंगलवार को भी हैलट में इलाज के लिए मरीज-मरीज दर भटकने को मजबूर रहे। राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा स्नातकोत्तर (नीट पीजी) की काउंसलिग में विलंब के विरोध में जूनियर रेजीडेन्ट (जेआर) की राष्ट्रव्यापी हड़ताल 11वें दिन मंगलवार को भी जारी रही। ओपीडी में करीब 4 से 5 पर्चे बनने के बाद काउंटर को बंद करा दिया गया। पुराने मरीजों को डॉक्टरों ने ओपीडी में चेकअप किया।

इलाज के लिए लोगों को भटकना पड़ रहा है।
इलाज के लिए लोगों को भटकना पड़ रहा है।

इमरजेंसी सेवाएं अभी चालू
मंगलवार को दिनभर एलएलआर (हैलट) इमरजेंसी की सेवाएं ठप किए जाने को लेकर चर्चाएं होती रहीं। फिलहाल डॉक्टरों की शांतिपूर्ण हड़ताल चल रही है। डॉक्टरों में जिस तरह से आक्रोश बढ़ रहा है। उससे ये साफ है कि कभी हैलट हॉस्पिटल में इमरजेंसी सेवाएं ठप की जा सकती हैं। अगर ऐसा हुआ तो मरीजों की जान पर संकट खड़ा हो जाएगा।

इमरजेंसी के बाहर डॉक्टर कर रहे हैं प्रदर्शन।
इमरजेंसी के बाहर डॉक्टर कर रहे हैं प्रदर्शन।

ऑपरेशन पूरी तरह बंद
मेडिकल कालेज के जेआर 11वें दिन भी इमरजेंसी के बाहर धरने पर डटे हैं। हड़ताल की वजह से रूटीन के आपरेशन नहीं हो रहे हैं। इमरजेंसी में मरीजों का इलाज और भर्ती दोनों हो रही है। ओपीडी और इनडोर के वार्ड में कंसल्टेंट के साथ सीनियर रेजीडेंट (एसआर), नान पीजी जूनियर रेजीडेंट (एनपीजी) और इंटर्न छात्र ड्यूटी कर रहे हैं। फिर भी जेआर-टू और जेआर-थ्री के कार्य बहिष्कार से एलएलआर अस्पताल की चिकित्सकीय सेवाएं प्रभावित हो रही हैं।

सुरक्षा में आरएएफ की गई है तैनात।
सुरक्षा में आरएएफ की गई है तैनात।

ये है पूरा मामला
जूनियर डॉक्टर्स की डिमांड है कि नीट पीजी की काउंसिलिंग जल्द की जाए। काउंसिलिंग न होने से नए डॉक्टर नहीं आ पा रहे हैं और जेआर के ऊपर वर्कलोड बढ़ता जा रहा है। जेआर-3 पासआउट होकर चले भी गए हैं और मौजूदा जेआर-1 और 2 आगे नहीं बढ़ पा रहे हैं। इससे उनकी पढ़ाई पर भी असर पड़ रहा है। उत्तर प्रदेश जूनियर रेजीडेंट एसोसिएशन (यूपी आरडीए) के अध्यक्ष डा. विनय कुमार ने बताया कि सरकार को निर्णय लेना होगा।

खबरें और भी हैं...