पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सोशल मीडिया पर महिलाओं से ब्लैकमेलिंग पर सख्ती करें:निरीक्षण के दौरान आईजी बोले- कानपुर ही नहीं छह जिलों के लोग दर्ज करा सकते हैं साइबर थाने में FIR

कानपुर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

आईजी रेंज मोहित अग्रवाल ने मंगलवार को रेलबाजार ट्रैफिक लाइन में बने साइबर थाने का निरीक्षण किया। उन्होंने कहा कि सिर्फ साइबर ठगी ही नहीं, सोशल मीडिया पर महिलाओं और बच्चों से संबंधित अपराध करने वालों के खिलाफ भी तेजी से कार्रवाई करे। इसके प्रति लोगों को जागरूक करने की भी नसीहत दी। इससे कि अधिक से अधिक लोगों को इसका फायदा मिल सके।

सोशल मीडिया पर महिलाओं और बच्चों के बढ़ रहे मामले
आईजी मोहित अग्रवाल ने बताया कि इंटरनेट की दुनिया में तेजी से साइबर अपराध भी बढ़ रहा है। मौजूदा समय में सोशल मीडिया पर महिलाओं, छात्राओं और बच्चों से दोस्ती करके उनसे अलग-अलग तरह से वसूली का अपराध बढ़ा है। व्यापारियों को भी हनीट्रैप में फंसाकर वसूली की जा रही है। इसके साथ ही साइबर ठगी के मामलों में रुपए वापसी और अपराधियों की धरपकड़ के साथ लोगों को जागरूक करने का भी काम करें।

साइबर थाने में सिर्फ कानपुर ही नहीं कानपुर रेंज के इटावा, औरैया, फर्रुखाबाद, फतेहगढ़, कन्नौज, कानपुर देहात और कानपुर आउटर के क्षेत्र में रहने वाला कोई भी व्यक्ति साइबर से संबंधित अपराध होने पर साइबर थाने में अपनी एफआईआर दर्ज करा सकता है। अगर सुनवाई नहीं हो रही तो सीधे आईजी दफ्तर में इसकी शिकायत दर्ज कराएं। इसके साथ ही साल भर के किए गए कामों की आईजी ने समीक्षा भी की।

एक साल में महज 21 एफआईआर, 6 में चार्जशीट एक में एफआर
आईजी ने समीक्षा शुरू की तो सामने आया कि साइबर थाने में साल भर के भीतर महज 21 मामले दर्ज हुए हैं। इसमें से अब तक 6 मामलों में पुलिस चार्जशीट दाखिल कर चुकी है। इसके साथ ही एक में फाइनल रिपोर्ट लगाई है। इसके साथ ही अन्य मामलों की जांच की जा रही है। इसके साथ ही साइबर थाने में 25 मामलों में अब तक 15 लाख रुपए लोगों के वापस भी कराए हैं।

25 महिलाओं की फेक आईडी डिलीट कराई
साइबर सेल ने तीन महीने में 25 महिलाओं की फेक फेसबुक, इंस्टाग्राम समेत अन्य सोशल मीडिया पर आईडी डिलीट कराई है। इन सभी महिलाओं को साइबर अपराधी फर्जी आईडी बनाकर ब्लैकमेलिंग करने का प्रयास कर रहे थे। इससे महिलाएं इकदम परेशान हो चुकी थी, लेकिन साइबर थाने में शिकायत दर्ज कराने के बाद उन्हें फौरन राहत मिल गई।

खबरें और भी हैं...