लाल मूली खाये इम्यून बढाये कोरोना को भगाये:कैंसर सहित कई बीमारियों से निपटने मे है कारगर लाल मूली

कानपुर9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

कृषि क्षेत्र में अपने शोध से देश में नई क्रांति लाने वाले चंद्र शेखर आजाद कृषि प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय ने एक नया शोध किया है। संस्थान के वरिष्ठ वैज्ञानिक एवं अध्यक्ष डॉक्टर अशोक ने बताया कि नये शोध मूली पर किया गया है। जिसमे लाल मूली सफेद की अपेक्षा ज्यादा फायदेमंद है। इतना ही नही यह मूली औषधीय गुणों से भरपूर है। सुबह लाल मूली खाने से इम्यून सिस्टम स्ट्रांग होता है। कोरोना संक्रमण के बीच इसका सेवन बहुत फायदेमंद है। कैंसर जैसी गंभीर बीमारियों से लड़ने में यह मूली कारगर है

मूली के औषधीय गुणों पर गिनाए फायदे

सीएसए के कृषि विज्ञान केंद्र दिलीप नगर के वरिष्ठ वैज्ञानिक एवं अध्यक्ष डॉक्टर अशोक कुमार ने शोध पर जानकारी दी। उन्होंने जय संवर्धित पोषण वाटिका पर अध्ययन किया है। अध्ययन के अनुसार उन्होंने बताया सफेद मूली की अपेक्षा लाल मूली सेहत के लिए अधिक लाभकारी है। मूली मानव शरीर में प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाती है। मूली में सलफिरासोल , इंडोल 3 केमिकल भरपूर मात्रा में मिलता है। इसके इसके कारण यह एंटी ऑक्सीडेंट भी उत्पन्न करती है। उन्होंने बताया कैंसर सेल्स को मारने में भी यह सरदार है। पेलागोरनीडीन नामक तत्व की वजह से इसका रंग लाल होता है।

औषधीय गुणों के साथ व्यवसाय खेती कर कमा सकते हैं दो गुना फायदा

डॉ अशोक ने बताया कि लाल मूली न केवल स्वास्थ्य बल्कि किसानों के लिए भी लाभप्रद है। इसकी व्यवसाय खेती की जा सकती है। लाल मूली को किसान सर्दी गर्मी समेत हर मौसम में उगा सकता है। इसकी जड़ की लंबाई 24 से 25 सेंटीमीटर जब की मोटाई 3 से 4 सेंटीमीटर तक रहती है वही वजन लगभग डेढ़ सौ ग्राम तक होता है। उन्होंने बताया मूली की यह प्रजाति लगभग 45 दिनों मैं तैयार हो जाती है। पत्ते सहित इसकी औसत उपज 600 से 700 कुंतल प्रति हेक्टेयर होती है। इसका प्रयोग सब्जी अचार सलाद आदि रूप में खूब किया जा रहा है। इसे सामान्य मूली की अपेक्षा दोगुने दामों पर बेचा जाता है जिससे यह लाभ का सौदा है।

औषधीय गुणों से भरपूर है लाल मूली

औषधीय तत्वों की वजह से इसकी बाजार में खासी मांग है। इसमें विटामिन ए और सी प्रचुर मात्रा में है। इसके सेवन से हाइपरटेंशन और मधुमेह जैसी बीमारियों से काफी हद तक बचा जा सकता है।

खबरें और भी हैं...