"युवाओं को बस सही मार्गदर्शन की जरूरत":कानपुर में राज्यपाल बोलीं- UP की सभी यूनिवर्सिटी को नैक में A+ ग्रेडिंग मिलनी चाहिए

कानपुर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कार्यक्रम के दौरान राज्यपाल आनंदीबेन पटेल संबोधित करते हुए। - Dainik Bhaskar
कार्यक्रम के दौरान राज्यपाल आनंदीबेन पटेल संबोधित करते हुए।

छत्रपति शाहू जी महाराज (CSJM) यूनिवर्सिटी में बुधवार को राज्यपाल आनंदी बेन पटेल ने आजादी के 75वें अमृत महोत्सव का शुभारंभ किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि देश के युवाओं में कौशल, शिक्षा और शक्ति की कमी नहीं है। बस उन्हें दिशा और सही मार्गदर्शन करने की जरूरत है।

कुलपति प्रो. विनय पाठक राज्यपाल आनंदी बेन पटेल को पौधा देकर सम्मानित करते हुए।
कुलपति प्रो. विनय पाठक राज्यपाल आनंदी बेन पटेल को पौधा देकर सम्मानित करते हुए।

"महिलाओं का प्रसव अस्पतालों में ही हो"

इस मौके पर आनंदी बेन पटेल ने यूनिवर्सिटी की ओर से 75 गांवों में आयोजित होने वाले कार्यक्रमों का शुभारंभ भी किया। उत्तर प्रदेश की प्रत्येक यूनिवर्सिटी को हमें इस योग्य बनाना है कि वह नैक में अ+ ग्रेड प्राप्त कर पूरे देश को गौरवांगित महसूस करा सके।

उन्होंने वहां मौजूद सभी ग्राम प्रधानों से कहा कि वे यह सुनिश्चित करें कि उनके गांवों में महिलाओं का प्रसव अस्पतालों में ही हो। उन्होंने मां के दूध का महत्व बताते हुए कहा है।

यदि जन्म के 1 घंटे के भीतर शिशु को मां का दूध मिल जाता है, तो इससे शिशु की प्रतिरोधक क्षमता पर बेहतर असर होता है, जिससे उसके बीमार होने की संभावनाएं भी कम हो जाती है। ग्राम प्रतिनिधियों को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि राज्य और केंद्र सरकार की ओर से चलाई जा रही योजनाओं का लाभ हर जरूरतमंद को मिलना चाहिए।

ग्रामीणों को आवश्यक सामग्री वितरित करते हुए राज्यपाल और कुलपति।
ग्रामीणों को आवश्यक सामग्री वितरित करते हुए राज्यपाल और कुलपति।

सात जिलों के 75 गांव को इलाज मुहैय्या कराएगा यूनिवर्सिटी

यूनिवर्सिटी के कुलपति प्रो. विनय कुमार पाठक ने बताया कि 7 जिलों के 75 गांवों व मलिन बस्तियों में नेत्र रोगों की स्क्रीनिंग और उपचार का काम शुरू कर दिया गया है। इसमें कैंसर रोगियों के लिए स्क्रीनिंग परियोजना, ये सभी अक्टूबर-नवंबर तक संचालित रहेगी।

इसके साथ ही उन्होंने इस प्रकार के कार्यक्रम श्रृंखला का हिस्सा बनने पर खुशी जाहिर करते हुए कहा कि यूनिवर्सिटी शिक्षा या फिर डिग्री देने तक की सीमित नही रहना चाहिए। बल्कि यहां छात्रों को सेवा करना भी सिखाना चाहिए, जिससे छात्र समाज के अंतिम पायदान तक के नागरिक को सहायता करने में सक्षम बन सकें।

गुमनाम स्वतंत्रता सेनानियों की ऑडियो बुक लांच की

इस मौके पर पत्रकारिता विभाग की ओर से गुमनाम स्वतंत्रता सेनानियों पर आधारित ऑडियो बुक और दो शिलालेखों का भी अनावरण किया गया। इसके साथ ही जिला नोडल अधिकारियों को 75 गांवों में रोपित होने वाले पौधे तथा झंडे भेंट किये गए।

इस पूरे अमृत महोत्सव के दौरान यूनिवर्सिटी से संबद्ध 7 जिलों के 75 गांवों में 12 से 15 अगस्त तक लगभग 15000 झंडे लगाये जायेंगे।

खबरें और भी हैं...