डेढ़ करोड़ के लिए छात्र का अपहरण:कानपुर पुलिस ने 24 घंटे में बरामद किया, दोस्त और रिश्तेदार ने हाथ-पैर बांधकर स्कॉर्पियो में पीछे डाल दिया था

कानपुरएक वर्ष पहले

कानपुर में डेढ़ करोड़ की फिरौती के लिए 15 साल के छात्र का अपहरण कर लिया था। पुलिस ने 24 घंटे के भीतर दो आरोपियों की गिरफ्तारी के साथ छात्र को बांदा से बरामद कर लिया है। छात्र के साथ पढ़ने वाले नाबालिग और उसके गांव में रहने वाले नजदीकियों ने ही स्कॉर्पियो से अपहरण की वारदात को अंजाम दिया था। छात्र के पिता ने कुछ दिन पहले ही 2 करोड़ की जमीन बेची थी।

अपहरण के आरोपी बांदा निवासी उदय भान सिंह और राज बहादुर सिंह चंदेल
अपहरण के आरोपी बांदा निवासी उदय भान सिंह और राज बहादुर सिंह चंदेल

पहले जमकर पीटा फिर हाथ-पैर बांधकर खिलाई नशे की गोलियां
कानपुर सचेंडी कला का पुरवा निवासी किसान दीपेंद्र सिंह का 15 वर्षीय बेटा वैभव उर्फ विभव सिंह चंदेल 11वीं का छात्र है। वह शुक्रवार की शाम को गंगापुर पनकी में ट्यूशन पढ़ने आया था। इस दौरान दोस्त आकाश सेंगर ने पार्टी देने के बहाने उसे कार में बैठाया फिर छह लोगों ने मिलकर वैभव का अपहरण कर लिया। इधर घर नहीं लौटने पर परिजनों ने खोजबीन शुरू की, लेकिन कोई सुराग नहीं मिला तो पनकी थाने में गुमशुदगी दर्ज कराई। पुलिस ने जांच शुरू की तो वैभव की साइकिल पनकी क्षेत्र में बंधुवा कला के पास एक गुमटी के बाहर खड़ी मिली। इसके बाद पुलिस ने लोगों से पूछताछ की। इस पर पता चला कि एक सफेद रंग की स्कार्पियो कार यूपी 90 एल 9721 से कुछ लोग आए थे। उनमें से ही एक ने यहां साइकिल खड़ी कर दी थी। उसने कहा था कि वह कुछ देर में लौट कर आ रहे हैं। संदेह होने पर गुमटी वाले ने स्कॉर्पियो का नंबर नोट कर लिया। पुलिस के लिए यह सूचना पर्याप्त थी। पनकी थाने की पुलिस, क्राइम ब्रांच समेत अन्य टीम ने गाड़ी नंबर के आधार पर बांदा से छात्र को बरामद कर लिया।

बरामद छात्र वैभव और उसके साथ मौजूद पिता व एडिशन पुलिस कमिश्नर आनंद प्रकाश तिवारी।
बरामद छात्र वैभव और उसके साथ मौजूद पिता व एडिशन पुलिस कमिश्नर आनंद प्रकाश तिवारी।

बांदा में लोकेशन मिलते ही रवाना हुई टीमें
पुलिस को वैभव की लोकेशन बांदा के आसपास मिली। तुरन्त पश्चिम जोन व क्राइम ब्रांच की टीम बांदा के लिए रवाना की गई। कमिश्नरेट पुलिस की टीमों ने बांदा में छापा मारकर वैभव को मुक्त करा लिया। अपहरणकर्ताओं ने उसके साथ काफी मारपीट की और नशे की दवा देकर बेहोश रख रहे थे। उसके हाथ पैर बांधकर गाड़ी में ही डाला हुआ था।

पनकी थाने में प्रेस वार्ता करके खुलासा करते एडिशनल पुलिस कमिश्नर आनंद प्रकाश तिवारी, डीसीपी क्राइम सलमान ताज पाटिल और डीसीपी वेस्ट जीजीबीटीएस मूर्ति
पनकी थाने में प्रेस वार्ता करके खुलासा करते एडिशनल पुलिस कमिश्नर आनंद प्रकाश तिवारी, डीसीपी क्राइम सलमान ताज पाटिल और डीसीपी वेस्ट जीजीबीटीएस मूर्ति

दो करोड़ की बेची थी जमीन, नाबालिग दोस्त निकला मास्टर माइंड
जांच में पता चला कि दीपेंद्र सिंह ने हाल ही में लगभग 2 करोड़ रुपए की जमीन बेची थी। इसकी जानकारी क्षेत्रीय लोगों को थी। इस पर कला का पुरवा में रहने वाले 20 वर्षीय आकाश सिंह सेंगर ने वैभव से दोस्ती कर ली। उसकी कोचिंग में भी साथ पढ़ने लगा। इस तरह से उसने वैभव को विस्वास में लिया और अपने बांदा निवासी रिश्तदारों को लोकेशन दी। इस पूरी योजना के तहत वैभव का गुरुवार 21 तारीख की शाम को कोचिंग से लौटते वक्त अपहरण कर लिया।

भाजपा का झंडा लगी कार से छात्र का किया था अपहरण।
भाजपा का झंडा लगी कार से छात्र का किया था अपहरण।

कार मालिक समेत दो गिरफतार
पुलिस ने ग्राम जारी थाना कोतवाली जनपद बांदा निवासी राज बहादुर सिंह चंदेल और उदय भान सिंह को गिरफतार कर लिया है। पुलिस ने इनके पास से वारदात में प्रयुक्त स्कार्पियो, दो तमंचे और दो मोटरसाइकिल बरामद की है।

अपहरण के फरार आरोपी आकाश, आकाश सिंह सेंगर और विकास। आकाश और विकास सगे भाई हैं।
अपहरण के फरार आरोपी आकाश, आकाश सिंह सेंगर और विकास। आकाश और विकास सगे भाई हैं।

सगे भाई समेत चार आरोपियों की तलाश
पुलिस वारदात में शामिल जारी बांदा निवासी सगे भाई विकास सिंह, आकाश सिंह निवासी , जसपुरा निवासी आर्यन और कला का पुरवा थाना सचेंडी निवासी आकाश सिंह सेंगर की तलाश में छापेमारी कर रही है। आकाश और विकास दोनों सगे भाई हैं।

चित्रकूट के बीहड़ ले जाने की थी तैयारी
गिरफ्तार अभियुक्त से पूछताछ में सामने आया कि बांदा के जंगल से वैभव को चित्रकूट के बीहड़ में ले जाने की तैयारी में थे। चित्रकूट ले जाकर अपहरणकर्ता फिरौती की मांग करते। परिवारवालों को परेशान करने के लिए अपहरणकर्ताओं ने वैभव का फोन भी स्विच ऑफ कर दिया था। ताकि वह परेशान हो और जब फिरौती की मांग की जाए तो वह तुरंत ही दे दें।