राजू श्रीवास्तव की जिंदगी की 15 खास तस्वीरें:कानपुर में गंदगी देख माथा पकड़कर बैठ गए थे, 8 गुना कीमत देकर खरीदा था पैतृक घर

कानपुर4 महीने पहलेलेखक: दिलीप सिंह

आज राजू के हंसी-ठिठोली और मिमिक्री के किस्से सबकी जुबां पर हैं। अमिताभ बच्चन का क्रेज उन पर इस कदर हावी था कि वो उन्हीं की तरह हेयर स्टाइल रखने लगे थे। यही कारण था कि जब राजू एम्स में एडमिट थे तो खुद अमिताभ ने ऑडियो भेजकर कहा था- उठो राजू।

एक बार वो कानपुर में स्वच्छता से जुड़े कार्यक्रम में पहुंचे तो गंदगी देखकर माथा पकड़कर बैठ गए। उनकी ये तस्वीर लोगों ने खूब पसंद की।

  • 15 अनदेखी तस्वीरों में राजू
बहुत कम लोग जानते हैं कि राजू श्रीवास्तव ने लव मैरिज की थी। ये तस्वीर 1993 की है। शादी में वो अपनी पत्नी शिखा के साथ।
बहुत कम लोग जानते हैं कि राजू श्रीवास्तव ने लव मैरिज की थी। ये तस्वीर 1993 की है। शादी में वो अपनी पत्नी शिखा के साथ।
ये पिछले साल 24 अक्तूबर को करवा चौथ की फोटो है। राजू की पूजा करती उनकी पत्नी शिखा।
ये पिछले साल 24 अक्तूबर को करवा चौथ की फोटो है। राजू की पूजा करती उनकी पत्नी शिखा।
करवा चौथ पर पूजा से पहले राजू श्रीवास्तव अपनी पत्नी शिखा और छोटे भाई और बहू के साथ।
करवा चौथ पर पूजा से पहले राजू श्रीवास्तव अपनी पत्नी शिखा और छोटे भाई और बहू के साथ।
राजू श्रीवास्तव के साथ उनकी पत्नी शिखा और दोनों बच्चे आयुष्मान और अंतरा।
राजू श्रीवास्तव के साथ उनकी पत्नी शिखा और दोनों बच्चे आयुष्मान और अंतरा।
संघर्ष के दिनों में राजू श्रीवास्तव और उनके दोस्त अजय त्रिवेदी। अजय कानपुर के ही रहने वाले हैं।
संघर्ष के दिनों में राजू श्रीवास्तव और उनके दोस्त अजय त्रिवेदी। अजय कानपुर के ही रहने वाले हैं।
अमिताभ बच्चन की हेयर स्टाइल रखे हुए राजू श्रीवास्तव की एक पुरानी तस्वीर। सिर्फ हेयर स्टाइल ही नहीं, बल्कि उनके बैठने का अंदाज भी अमिताभ वाला है।
अमिताभ बच्चन की हेयर स्टाइल रखे हुए राजू श्रीवास्तव की एक पुरानी तस्वीर। सिर्फ हेयर स्टाइल ही नहीं, बल्कि उनके बैठने का अंदाज भी अमिताभ वाला है।
2006 में राजू की 12 साल की बेटी अंतरा को तत्कालीन राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम ने राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार दिया था। उनके घर में बदमाशों ने धावा बोला था, लेकिन बेटी की सूझ-बूझ से बदमाश पकड़े गए थे।
2006 में राजू की 12 साल की बेटी अंतरा को तत्कालीन राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम ने राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार दिया था। उनके घर में बदमाशों ने धावा बोला था, लेकिन बेटी की सूझ-बूझ से बदमाश पकड़े गए थे।
राजू अपनी पत्नी के साथ पाकिस्तान बार्डर तक घूमने के लिए गए थे। उन्हें घूमना बहुत पसंद था। सोशल मीडिया पर ये तस्वीरें वायरल हो रही है।
राजू अपनी पत्नी के साथ पाकिस्तान बार्डर तक घूमने के लिए गए थे। उन्हें घूमना बहुत पसंद था। सोशल मीडिया पर ये तस्वीरें वायरल हो रही है।
अमिताभ बच्चन के लुक में राजू श्रीवास्तव की एक पुरानी तस्वीर। ये तस्वीर उनके घर की दीवार पर लगी हुई है।
अमिताभ बच्चन के लुक में राजू श्रीवास्तव की एक पुरानी तस्वीर। ये तस्वीर उनके घर की दीवार पर लगी हुई है।
राजू अमिताभ बच्चन को अपना गुरु मानते थे। कॉमेडी से लेकर अपने निजी जीवन में भी फॉलो करते थे।
राजू अमिताभ बच्चन को अपना गुरु मानते थे। कॉमेडी से लेकर अपने निजी जीवन में भी फॉलो करते थे।
लॉकडाउन के दौरान घर पर थाली के साथ मंजीरा और वाद्ययंत्र भी परिवार के साथ बजाया था। इस तस्वीर में उनके परिवार के सदस्य भी नजर आ रहे हैं।
लॉकडाउन के दौरान घर पर थाली के साथ मंजीरा और वाद्ययंत्र भी परिवार के साथ बजाया था। इस तस्वीर में उनके परिवार के सदस्य भी नजर आ रहे हैं।
कानपुर में स्वच्छता अभियान के दौरान उन्हें सड़क पर उतारा गया तो गंदगी देखकर उन्होंने माथा पकड़ लिया था। उनके बगल में बैठे हुए गोविंद नगर विधानसभा से भाजपा विधायक सुरेंद्र मैथानी।
कानपुर में स्वच्छता अभियान के दौरान उन्हें सड़क पर उतारा गया तो गंदगी देखकर उन्होंने माथा पकड़ लिया था। उनके बगल में बैठे हुए गोविंद नगर विधानसभा से भाजपा विधायक सुरेंद्र मैथानी।
इस तस्वीर को ध्यान से देखिए, ये शख्स कोई और नहीं राजू ही हैं। लॉफ्टर चैलेंज शो के दौरान उन्होंने गब्बर सिंह का गेटअप रखा था।
इस तस्वीर को ध्यान से देखिए, ये शख्स कोई और नहीं राजू ही हैं। लॉफ्टर चैलेंज शो के दौरान उन्होंने गब्बर सिंह का गेटअप रखा था।
बेटे आयुष्मान और बेटी अंतरा के साथ विदेश यात्रा पर राजू श्रीवास्तव। इस तस्वीर को उन्होंने खुद लोगों के साथ साझा किया था।
बेटे आयुष्मान और बेटी अंतरा के साथ विदेश यात्रा पर राजू श्रीवास्तव। इस तस्वीर को उन्होंने खुद लोगों के साथ साझा किया था।
राजू श्रीवास्तव की ये तस्वीर दार्शनिक गुरु आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी अवधेशानंद गिरी महाराज से मुलाकात के दौरान की है।
राजू श्रीवास्तव की ये तस्वीर दार्शनिक गुरु आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी अवधेशानंद गिरी महाराज से मुलाकात के दौरान की है।

अब आपको राजू के पैतृक मकान खरीदे की कहानी भी पढ़वाते हैं...

10 साल तक मकान मालिक को मनाया, 8 गुना ज्यादा कीमत चुकाई
राजू श्रीवास्तव बेहद साधारण परिवार से थे। उनके परिवार के जीवन में एक दौर ऐसा भी आया जब वर्ष 1990 में पिता बलई काका को अपना पैतृक मकान बेचना पड़ गया। राजू श्रीवास्तव का जन्म किदवई नगर नयापुरवा में ही हुआ था। इसके चलते राजू को अपने पैतृक मकान से बड़ा प्यार था। राजू ने ही इस घर का नाम काका कोठी रखा था।

ये तस्वीर राजू के पैतृक मकान की है। उन्होंने इसको खरीदने के लिए मकान मालिक को 10 साल तक मनाया।
ये तस्वीर राजू के पैतृक मकान की है। उन्होंने इसको खरीदने के लिए मकान मालिक को 10 साल तक मनाया।

पिता को दोबारा उसी घर में लेकर गए
राजू के दोस्त मुकेश श्रीवास्तव ने बताया कि 1990 में राजू के पिता रमेश चंद्र श्रीवास्तव ( बलई काका) ने किसी मजबूरी में इस मकान को सुरेश सिंह चौहान को साढ़े तीन लाख रुपए में बेच दिया था। मकान बिकने के बाद राजू बेहद दुखी थे। उनके पिता और राजू पड़ोसी शिवेंद्र पांडेय के पास भी गए। कहा कि सुरेश सिंह से बात करें। कई सालों तक मकान मालिक को मनाने का दौर चला। साल 2000 में राजू ने इस मकान को 8 गुना ज्यादा कीमत देकर 24 लाख रुपए में खरीद लिया। मकान खरीदने के बाद राजू के पिता बलई काका फिर से परिवार के साथ यहां आ गए। (पूरी खबर यहां पढ़ें)

राजू के घर का नाम काका कोठी था। यह नाम उन्होंने अपने पिता के नाम रखा था। राजू को इस घर से काफी लगाव था।
राजू के घर का नाम काका कोठी था। यह नाम उन्होंने अपने पिता के नाम रखा था। राजू को इस घर से काफी लगाव था।