• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Kanpur
  • Shocking Post Mortem Report Of 10 Year Old Boy Who Was Murdered In Narval, Doctors Are Also Surprised To See Cruelty As 7 Inch Nail Was Hammered In Left Eye, 14 Burn Spot On Face

मासूम का पोस्टमार्टम करने में डॉक्टरों की रूह कांप गई:कानपुर में हत्यारे ने बाईं आंख से ठोंकी थी 7 इंच की कील, चेहरे को 14 जगह सिगरेट से दागा

कानपुर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कानपुर के नर्वल में 10 साल के मासूम दलित बच्चे की पोस्टमार्टम रिपोर्ट आ गई है। बच्चे की सिर्फ हत्या नहीं की गई, उसे इस कदर तड़पा-तड़पा कर मारा गया कि शव की हालत देखकर परिवार ही नहीं पूरा गांव सहमा हुआ है। पोस्टमार्टम करने वाले डॉक्टरों का कहना है कि किसी बच्चे के साथ इतनी दरिंदगी और हैवानियत का पहला केस उन्होंने देखा है। बच्चे की बाईं आंख से 7 इंच की कील निकली है, उसके चेहरे को सिगरेट से 14 जगहों पर दागा गया था। पूरे शरीर पर पिटाई के निशान मिले हैं।

गांव के लोगों में गुस्सा है कि कानपुर में बैठने वाले दो बड़े अफसर ADG और IG ने मौके पर जाकर पीड़ित परिवार के प्रति संवेदना जताना मुनासिब नहीं समझा। अफसर चुनाव में व्यस्त हैं। बच्चे के शव का उर्सला अस्पताल के डॉ. वीकेएस कटियार, डॉ. राजेश वर्मा समेत तीन डॉक्टरों के पैनल ने वीडियोग्राफी के साथ पोस्टमॉर्टम किया।

10 साल के मासूम से निर्भया जैसी हैवानियत:कानपुर में बच्चे को अगवा कर आंख में कील ठोंकी, सिगरेट से जलाया; फिर गला दबाकर मारा

पोस्टमार्टम की बड़ी बातें-

  • बच्चे की बाईं आंख से 7 इंच की कील बरामद निकली है। हत्यारे ने बच्चे की हत्या से पहले उसकी आंख में सात इंच की कील ठोंकी थी।
  • चेहरे को सिगरेट से 14 जगह दागा गया। सीने से लेकर गर्दन और चेहरे में कुल 2 दर्जन जख्म मिले हैं। इसके साथ ही पूरे शरीर में पिटाई के भी निशान हैं।
  • बच्चे की मौत हेड इंजरी से हुई है। इससे सिर की 4 हड्डियां टूट गईं और वह कोमा में चला गया। इसके बाद उसकी मौत हो गई।
  • गले को पैर से दबाया गया। शरीर पर जूते के निशान भी मिले हैं। इससे एक बात तो साफ है कि लात लगाकर ही गला घोंटा गया था, लेकिन मौत सिर पर चोट लगने के बाद हुई थी।
  • मासूम से कुकर्म की पुष्टि के लिए स्लाइड बनवाई गई है। उसके शरीर के पिछले हिस्से में फॉरेन पार्टिकल के जरिए डैमेज होने की भी पुष्टि हुई है। पोस्टमॉर्टम करने वाले डाक्टरों के मुताबिक पिछले हिस्से की मांस पेशियां पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गई थीं।
बच्चे को दफनाने का प्रतीकात्मक फोटो।
बच्चे को दफनाने का प्रतीकात्मक फोटो।

माहौल बिगड़ने के डर से पुलिस ने जबरन कराया अंतिम संस्कार
परिजनों के मुताबिक पहले तो उनके 10 साल के बेटे के साथ हत्यारे ने खूनी खेल खेला। अब पुलिस ने उनकी अंतिम इच्छा भी पूरी नहीं करने दी और संस्कारों के विपरीत जाकर शव का अंतिम संस्कार करा दिया गया। इस बात को लेकर परिवार ही नहीं गांव के लोगों में आक्रोश है। पुलिस अफसरों का कहना है कि गांव में शव ले जाना ठीक नहीं था। विधानसभा चुनाव के चलते इलाके का माहौल बिगड़ सकता था। इसके चलते परिजनों की इच्छा के विपरीत जाकर रात में ही अंतिम संस्कार करा दिया गया।

एडीजी कानपुर भानु भास्कर और आईजी प्रशांत कुमार।
एडीजी कानपुर भानु भास्कर और आईजी प्रशांत कुमार।

चुनाव की तैयारियों में व्यस्त हैं ADG और IG
बच्चे के साथ निर्भया जैसी हैवानियत ने सिर्फ ना सिर्फ इस गांव के लोगों को झकझोर दिया है। हर कोई बच्चे के साथ इतनी हैवानियत देखकर दंग है। वैसे, आपको जानकर हैरत होगी कि शहर में बैठने वाले पुलिस के दो बड़े अफसर ADG भानु भास्कर और IG प्रशांत कुमार ने मौका मुआयना तक करना उचित नहीं समझा। दोनों अफसरों की चुनाव की तैयारियों में व्यस्तता ज्यादा है। ADG झांसी दौरे पर निकले हुए थे।

अफसरों ने यह कहा
मामले में ADG भानु भास्कर से बात करने पर उन्होंने बताया कि वह पूरे मामले की मॉनिटरिंग कर रहे हैं। आरोपी की तलाश में चार टीमें लगाई गईं हैं। जल्द ही खुलासा होगा। इसी तरह IG ने भी कहा कि आरोपी ने नृशंस हत्याकांड को अंजाम दिया है। मामले के खुलासे के लिए SP आउटर को विशेष तौर पर दिशा-निर्देश दिए गए हैं।

खबरें और भी हैं...