पॉलिटेक्निक स्टूडेंट्स ने समझी मेट्रो संचालन की बारिकियां:शैक्षणिक भ्रमण के साथ विद्यार्थियों ने लिया मेट्रो यात्रा का आनंद

कानपुर9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

मेट्रो की आधुनिक तकनीक से अवगत कराने और इसकी बारीकियों को समझाने के लिए शनिवार को राजकीय पॉलिटेक्निक के इलेक्ट्रिकल विभाग के स्टूडेंट्स डिपो पहुंचे। वहां उन्होंने अधिकारियों से मेट्रो परिचालन के बारे में विस्तार से जानकारी हासिल की। इसके बाद सभी विद्यार्थी गुरुदेव पैलेस मेट्रो स्टेशन पहुंचे जहां उन्होंने स्टेशन पर स्थित इलेक्ट्रिकल रूम का दौरा किया और फिर आईआईटी मेट्रो स्टेशन तक यात्रा की।

ओसीसी से होती है निगरानी

सुबह करीब 10:00 बजे पॉलिटेक्निक के इलेक्ट्रिकल विभाग के 43 विद्यार्थियों और दो प्राध्यापकों का दल गुरुदेव चौराहे के निकट स्थित मेट्रो डिपो पहुंचा। शैक्षणिक भ्रमण की शुरुआत डिपो में स्थित ऑपरेशन्स कंट्रोल सेंटर (ओसीसी) से हुई। ओसीसी से ही मेट्रो कॉरिडोर पर मेट्रो सेवाओं का संचालन व निगरानी की जाती है। वहां मेट्रो के ऑपरेशन्स विभाग के अधिकारियों ने विद्यार्थियों को बताया कि किस तरह एक सेंट्रलाइज्ड सिस्टम के जरिए नौ किलोमीटर लंबे प्राथमिक सेक्शन (आईआईटी-मोतीझील) पर मेट्रो सेवाओं का संचालन किया जा रहा है। सभी स्टेशन एवं ट्रेनें लगातार ओसीसी के साथ संपर्क में रहती हैं और ओसीसी के दिशा-निर्देशों के अनुरूप ही संचालन सुनिश्चित होता है।

पावर डिस्ट्रीब्यूशन की गणित समझी

विद्यार्थी गुरुदेव मेट्रो स्टेशन पहुंचे जहां उन्हें ऑक्जलिरी सब स्टेशन (एएसएस) की कार्यप्रणाली के बारे में बताया गया। मेट्रो स्टेशनों पर बने एएसएस रूम के जरिए स्टेशन पर लगे इलेक्ट्रिकल उपकरणों और ट्रेनों के संचालन के लिए ऊर्जा का वितरण (पावर डिस्ट्रीब्यूशन) किया जाता है।

आरएसएस से होती है पावर सप्लाई

विद्यार्थियों को जानकारी दी गई कि लखनपुर स्थित रिसीविंग सब स्टेशन (आरएसएस) से सभी स्टेशनों और डिपो में पावर सप्लाई पहुंची है और इसके बाद विभिन्न सिस्टमों को जरूरत के हिसाब से पॉवर डिस्ट्रीब्यूट कर दी जाती है।

अत्याधुनिक फीचर्स की दी जानकारी

अंतिम चरण में विद्यार्थियों ने गुरुदेव पैलसे से स्टेशन से आईआईटी मेट्रो स्टेशन तक यात्रा की। इस दौरान यूपी मेट्रो के ऑपरेशन्स स्टॉफ ने उन्हें मेट्रो ट्रेन के अत्याधुनिक फीचर्स के बारे में बताया। स्टॉफ के सहयोगी व्यवहार से प्रभावित होकर विद्यार्थियों ने धन्यवाद प्रकट किया।