पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Kanpur
  • Sudden Prices Fell Amidst Prospects Of Dry Fruits Coming From California, Afghanistan And China, Wholesalers Suffered Heavy Losses. Kanpur

ड्राई फुट के दामों में आई गिरावट:कैलिफोर्निया,अफगानिस्तान और चीन से सूखे मेवे आने की संभावनाओं के बीच अचानक दाम कम हुए, थोक कारोबारियों को हुआ भारी नुकसान

कानपुर18 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
फाइल फोटो - Dainik Bhaskar
फाइल फोटो

पिछले लंबे समय से बाजार में ड्राई फ्रूट्स के दाम लगातार आसमान छू रहे थे। अचानक सूखे मेवों की कीमतों में बड़ी गिरावट दर्ज की गयी है। अफगानिस्तान से ड्राई फ्रूट्स की आवक बढ़ने की संभावनाओं साथ चीन के कंटेनर रिलीज होने के बाद प्रति किलो की कीमतों में बड़ी कमी देखी गई है। बाजार में हुई इस कमी से थोक विक्रेताओं को बड़ा झटका लगा है। जबकि आम लोगों को राहत मिलने वाली हैं। त्यौहारी सीजन में ड्राई फुट की कीमतों में कमी होने से आने वाले समय में किराना कारोबार के ऊंचाई में पहुंचने के संभावनाएं बढ़ गयी है।

कोरोना काल में बढ़ी थी ड्राई फ्रूट्स की डिमांड

कोरोना से बचने के लिये इम्यून सिस्टम बढ़ाने को लेकर गर्मी के सीजन में भी सूखे मेवों की मांग में बड़ी तेजी आई थी। खासतौर से बादाम, अंजीर और पिस्ता के दाम आसमान छूने लगे थे। बाजार भाव इस स्तर पर ही गए थे कि ड्राई फ्रूट्स लेना आम आदमी के बस में नहीं रह गया था। बादाम की कीमतें तो 1100 रुपये प्रति किलो तक पहुंच गई थी। इसके पीछे का मुख्य कारण रहा यह कि हर आदमी अपने इम्यून सिस्टम को बढ़ाने को लेकर फ़िक्रमंद दिखा।

अफगानिस्तान के बिगड़े हालातों ने भी बढ़ाई कीमतें

अफगानिस्तान हालात बिगड़ने के बाद ड्राई फ्रूट्स अचानक बहुत महंगे हो गए थे। थोक कारोबारियों का कहना है कि अफगानिस्तान से आने वाले मेवों के आवक की बंदी हो गयी थी। जिससे दाम अचानक बढ़े थे। भारत में में 80 फीसद ड्राई फ्रूट्स अमेरिका के कैलिफोर्निया से मंगाया जाता रहा है। वहां भी बीते सीजन पैदावार कम होने की वजह से भाव में लगातार ऊंचाई पर रहे। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कीमतें बढ़ी हुई थी इस बीच कोरोना की वजह से विदेशों से माल भी नहीं आ सका था। व्यापारियों के दिए गए ऑर्डर पूरे नहीं हो पा रहे थे। जो आर्डर दिए थे त्योहारी सीजन को देखते हुए वह भी काफी कम लग रहे थे। वोही बढ़ते कोरोना के बीच चीन से आने वाले सभी सामानों पर रोक लगी हुई थी। जिसकी वजह से बड़े कंटेनर भरे जहाज रोक दिए गए थे। इधर थोक बाजार में लगातार माल की आवक प्रभावित हो रही थी जिसकी वजह से भी पिछले दिनों दाम आसमान छू रहे थे।

अब नही बढेंगे सूखे मेवों के दाम

बाजार के जानकारों का कहना है कि विदेशों में भी पैदावार कम होने और अफगानिस्तान से रिश्ते बिगड़ने की बजह से ड्राई फ्रूट्स का बाजार ऊँचाई पर रहा। कारोबारी अशोक बाजपेई ने बताया कि अब स्थितियां सुधर रही है। अगस्त के महीने में कैलिफोर्निया में बादाम की नई फसल आ गई है। अफगानिस्तान में भी हालात सामान होते दिख रहे हैं। वहां से भी दिये गये आर्डर के सप्लाई बहुत जल्द शुरू होने की उम्मीद लगाई जा रही है। इधर चाइना के भी कन्टेनर से रोक हटा दी गई है। वह भी भारतीय पोस्ट पहुंच रहे हैं, जिससे बहुत जल्द ड्राई फ्रूट्स में तेजी से आपूर्ति शुरू होने वाली है। इसी के चलते बादाम के भाव प्रति किलो ढाई सौ रुपये तक कम दर्ज किए जा रहे हैं। बादाम रेगुलर 900 से 850 रुपये प्रति किलो तक हो गया है। उन्होंने बताया कि आने वाले समय में नवरात्रि दशहरा और दीपावली में बादाम के दाम और बढ़ने की जो संभावनाएं थी वह खत्म हो गई है। इससे आम जनता को काफी राहत मिलने वाली है।

खबरें और भी हैं...