कानपुर में कार ने स्कूटी को 1 किमी घसीटा:2 लड़कियों को मारी टक्कर, स्कूटी कार में फंसी रह गई; लोगों ने घेरकर पकड़ा

कानपुर5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कानपुर में दिल्ली के कंझावला जैसा कांड होते होते बच गया। यहां स्कूटी सवार 2 लड़कियों को एक कार ने टक्कर मार दी। स्कूटी कार में फंसी रह गई और ड्राइवर 1 किमी. तक उसे घसीटता रहा। गनीमत रही, लड़कियां स्कूटी में फंसी नहीं थीं, वरना बड़ा हादसा हो जाता। पुलिस और लोगों की घेराबंदी के बाद कार सवार को दबोचा गया। इसे हाई प्रोफाइल कारोबारी फैमिली का मामला बताया जा रहा है।

पुलिस हिरासत में अपनी ही चोट दिखाता रहा रोहन

पुलिस हिरासत में कार चालक रोहन अपनी चोट दिखाते हुए घटना पर लगातार सफाई देता रहा।
पुलिस हिरासत में कार चालक रोहन अपनी चोट दिखाते हुए घटना पर लगातार सफाई देता रहा।

मामला रविवार रात का फजलगंज क्षेत्र का है। हिरासत में पुलिस की पूछताछ में लड़के ने अपना नाम रोहन बताया। इस दौरान वह खुद को पीड़ित दिखाने की कोशिश करता रहा। उसने कहा, मेरी कार में कोई नहीं फंसा था। मेरे ऊपर हमला हुआ। मेरी कार के शीशे तोड़े। वह पुलिस को अपनी चोट भी दिखाता रहा। पुलिस का कहना है कि दूसरा पक्ष कार्रवाई नहीं चाहता था, इसलिए लड़के को छोड़ना पड़ा।

नशे में था, कार से 3 स्कूटी सवार लड़कियों को टक्कर मारी

घटना के बाद गोविंदपुरी पुल के पास लोगों की भीड़ जमा हो गई।
घटना के बाद गोविंदपुरी पुल के पास लोगों की भीड़ जमा हो गई।

पुलिस सूत्रों के अनुसार, ऐसा कहा जा रहा है लड़का उस समय नशे में था। वह अपनी लग्जरी कार से फजलगंज चौराहा से गोविंद नगर की तरफ जा रहा था। उसने गोविंदपुरी पुल के पहले सामने से आ रही स्कूटी सवार 2 लड़कियों को जोरदार टक्कर मार दी।

हादसे में दोनों लड़कियां घायल हो गईं। लड़के ने रुकने के बजाय कार की रफ्तार और बढ़ा दी। इस दौरान कार के नीचे स्कूटी फंसी रह गई और करीब 1 किमी. तक घीसटती रही। सूचना पर गोविंद नगर थाने की पुलिस और भीड़ ने उसकी घेराबंदी की। उसे चावला मार्केट चौराहे के पास दबोचा गया। इसके बाद फजलगंज थाने की पुलिस ने आरोपी रोहन को हिरासत में लिया। उसको थाने लाया गया। यहां पूछताछ में उसके फैमिली बैकग्राउंड के बारे में मालूम हुआ।

लड़कियां भी कारोबारी परिवार से, टक्कर से दूर जा गिरी

ये उस गाड़ी का नंबर है, जिस गाड़ी से लड़कियों को टक्कर मारी गई।
ये उस गाड़ी का नंबर है, जिस गाड़ी से लड़कियों को टक्कर मारी गई।

इस हादसे में साकेत नगर निवासी कारोबारी आशुतोष छाबड़ा की 21 साल की बेटी कौशिक और उनके अपार्टमेंट के दूसरे फ्लैट के राजीव भटनागर की 19 साल की बेटी परिधि की जान जाते-जाते बची। गनीमत रही कि हादसे के बाद दोनों लड़कियां गाड़ी से दूर जाकर गिरीं। हादसे के बाद पूरा परिवार दहशत में है।

पुलिस ने आरोपी को लोगों से बचाया
हादसे के बाद भीड़ ने गाली-गलौज करते हुए आरोपी को पीटने की कोशिश की। लेकिन पुलिस ने उसे लोगों के चंगुल से बचा लिया। कार्रवाई का आश्वासन देकर फजलगंज थाने की पुलिस कार चालक को थाने ले आई।

स्कूटी में सिर्फ चेचिस बची

स्कूटी के हैंडल और पहियों का पता ही नहीं चला। सिर्फ चेंचिस ही बची।
स्कूटी के हैंडल और पहियों का पता ही नहीं चला। सिर्फ चेंचिस ही बची।

करीब एक किमी. तक कार के नीचे फंसकर घसीटने के बाद स्कूटी के परखचे उड़ गए। स्कूटी का हैंडल और पहियों का पता ही नहीं चला। सिर्फ चेंचिस ही बची थी। पुलिस लोडर पर लादकर स्कूटी को थाने लेकर आई। स्कूटी की हालत देखकर हादसे की भयावहता का अंदाजा लगाया जा सकता है।

फजलगंज थाना प्रभारी आशीष द्विवेदी ने बताया कि घायल युवतियां और उनके पिता मामले में कोई कार्रवाई नहीं चाहते थे। इसके चलते आरोपी को थाने से छोड़ दिया गया और उसकी गाड़ी भी उसके सुपुर्द कर दी गई।

खबरें और भी हैं...