पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Kanpur
  • The First Amusement Park Was Opened For Children, Once The Ticket For Entry Was Black, Now Booking Of Weddings Was Started, Mikki House Kanpur, Kanpur Nagar Nigam, Kanpur

कानपुर में सील किया गया मिक्की हाउस:बच्चों के लिए खोला गया था पहला मनोरंजन पार्क, कभी एंट्री के लिए टिकट होती थी ब्लैक, अब होने लगी थी शादियों की बुकिंग

कानपुर13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
हाईकोर्ट ने नगर निगम को डायरेक्शन दी थी कि इस पर निर्णय लिया जाए। नगर निगम ने निर्णय लेते हुए लीज पूरी होने पर रिन्यूवल करने से मना कर दिया। - Dainik Bhaskar
हाईकोर्ट ने नगर निगम को डायरेक्शन दी थी कि इस पर निर्णय लिया जाए। नगर निगम ने निर्णय लेते हुए लीज पूरी होने पर रिन्यूवल करने से मना कर दिया।

किदवई नगर के-ब्लॉक स्थित मनोरंजन पार्क मिक्की हाउस अब पूरी तरह से बंद हो गया है। बीते कई सालों से ये बंद था और यहां शादियों के लिए बुकिंग की जाने लगी थी। नगर निगम ने मनोरंजन पार्क के नाम पर ये जमीन लीज पर दी थी। लेकिन इसका गलत प्रयोग होने पर नगर निगम ने लीज पूरी होने के बाद निरस्त कर दी। बुधवार को नगर निगम ने पार्क को सील कर दिया। बता दें कि 30 साल पहले ये शहर का इकलौता मनोरंजन पार्क था।

मिक्की हाउस को सील करते हुए नगर निगम के अधिकारी।
मिक्की हाउस को सील करते हुए नगर निगम के अधिकारी।

हाईकोर्ट ने दी थी डायरेक्शन
नगर निगम संपत्ति प्रभारी अतुल कृष्ण सिंह ने बताया कि लीज को रिन्यूवल न करने पर साउथ एशियन इंटरप्राइजेज लिमिटेड के ओनर ने हाईकोर्ट में लीज बढ़ाने का वाद दायर किया था। इसमें हाईकोर्ट ने नगर निगम को डायरेक्शन दी थी कि इस पर निर्णय लिया जाए। नगर निगम ने निर्णय लेते हुए लीज पूरी होने पर रिन्यूवल करने से मना कर दिया। नगर निगम अधिकारियों और प्रवर्तन दस्ते की टीम ने बुधवार को पार्क को सील कर दिया।
2 दिन का समय दिया
मुख्य गेट को सील कर दिया गया है। वहीं पार्क के अंदर लोग अवैध रूप से रह रहे थे। नगर निगम सभी को 2 दिन का समय देकर सामान सहित जगह छोड़ने के लिए कहा है। प्रवर्तन प्रभारी रि. ले. कर्नल आलोक नारायण ने बताया कि पार्क पूरी तरह से कबाड़ में तब्दील हो गया है। वहीं पार्क में अवैध तरीके से एटीएम भी खोल दिया गया है। इसे भी बंद कराया जाएगा।
टिकट होते थे ब्लैक
ये पार्क जब शुरू किया गया था तब यहां प्रवेश के लिए लोग टिकट ब्लैक में खरीदते थे। वक्त के साथ लोगों ने मॉल का रुख किया और पार्क बदहाल होता चला गया। इसको चलाने के लिए कंपनी की तरफ से कोई कवायद नहीं की गई।
ये है मिक्की हाउस का इतिहास
ईयर- 1991 में दिल्ली की साउथ इंटरप्राइजेज और नगर निगम के बीच एक करार हुआ, जिसके अंतर्गत मिक्की हाउस का निर्माण कंपनी द्वारा कराया गया। दिल्ली में स्थित अप्पू घर के सहयोग से यहां झूलों को स्थापित किया गया था। तत्कालीन मेयर श्रीप्रकाश जायसवाल ने इसका लोकार्पण किया था। नगर निगम और कंपनी का करार 30 जून 2021 तक थी। इसका सालाना किराया 3.60 लाख रुपये नगर निगम को देना होता था और यहां 21 कर्मचारी कार्य करते थे।
ये झूले थे पार्क की शान
- कोलम्बस
- मिक्की अंब्रेला
- बेबी ट्रेन
- फैमिली ट्रेन
- मेरी गोराइन
- फ्राग राइव
- कैटर पिलर

खबरें और भी हैं...