• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Kanpur
  • The Location Of The Accused Was Found At The Crime Scene, The Eyewitness Said, The Girl Was Screaming, Leave Me, The Police Is Pressing The Matter

टेलीकॉलर को जिंदा फूंक कर की थी नृशंस हत्या:आरोपियों की लोकेशन वारदात स्थल पर मिली, प्रत्यक्षदर्शी बोला लड़की चीख रही थी मुझे छोड़ दो, पुलिस दबा रही मामला

कानपुर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आक्रोशित परिजनों को कार्रवाई का आश्वासन देकर शांत कराते एसीपी त्रिपुरारी पांडेय। - Dainik Bhaskar
आक्रोशित परिजनों को कार्रवाई का आश्वासन देकर शांत कराते एसीपी त्रिपुरारी पांडेय।

चकेरी श्याम नगर में रहने वाली टेलीकॉलर ने आत्मदाह नहीं किया बल्कि उसे रेलवे ट्रैक के पास सूनसान जगह पर जिंदा फूंक कर नृशंस हत्या की गई थी। पुलिस ने आरोपी युवक और युवती को जेल भेज दिया, लेकिन हत्याकांड का खुलासा अभी तक नहीं कर सकी है। पुलिस मामले में लीपापोती करने में लगी है। जबकि पुलिस को कई अहम साक्ष्य मिले हैं।

मृतक ज्योति (फाइल फोटो)
मृतक ज्योति (फाइल फोटो)

आरोपियों की वारदात स्थल पर लोकेशन समेत कई साक्ष्य मिले
आपको जानकर हैरत होगी कि पुलिस चकेरी श्याम नगर की टेलीकॉलर ज्योति की मौत को आत्महत्या बता रही थी, अब जांच में ज्योति को पेट्रोल डालकर जिंदा फूंकने कई साक्ष्य मिल रहे हैं। परिजनों ने जिन पर आरोप लगाया अमित और युवती विमल की लोकेशन भी वारदात स्थल पर मिली है। इतना ही नहीं कॉल डिटेल में अमित की ही आखिरी कॉल भी है। इन दोनों के अलावा अन्य दो व्यक्तियों के भी हत्याकांड में शामिल होने की आशंका है। एक प्रत्यक्षदर्शी भी मिला है जिसने युवती की चीखने और कुछ लोगों को आवाजाही करते हुए देखा था। पुलिस ने बुधवार को आरोपी युवती विमल और अमित को जेल भेज दिया। इसके साथ ही अब हत्याकांड का खुलासा करने के लिए जांच में जुट गई है।
पहले ट्रेन की पटरी पर फेंककर हत्या का था इरादा
आरोपियों से पूछताछ और पुलिस की जांच में सामने आया है पहले आरोपियों ने युवती को रेलवे ट्रैक पर ट्रेन के आगे फेंककर हत्या का प्लान बनाया था। इसके बाद हत्याकांड का प्लान बदल गया और पेट्रोल डालकर जिंदा फूंक दिया गया। क्यों कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मौत की वजह आग से जलने से आई है। हत्याकांड की परतें खुलने पर पुलिस ने पूरे मामले की जांच तेजी से शुरू कर दी है।

परिजनों ने उठाए थे ये सवाल....?

  • बेटी ने रेलवे लाइन किनारे आत्मदाह किया तो किसी ने देखा क्यों नहीं? किसी ने चीखें क्यों नहीं सुनीं?
  • बेटी रेलवे ट्रैक किनारे कभी नहीं गई, वहां आग लगाने के लिए कैसे पहुंच गई?
  • यदि आत्मदाह है तो 90 फीसदी शव कैसे जल गया?
  • बेटी के लापता होने के बाद पुलिस ने क्या किया? सिर्फ गुमशुदगी लिखकर पल्ला क्यों झाड़ लिया

पुलिस बता रही थी आत्महत्या, हंगामा और प्रदर्शन के बाद हुई थी FIR
श्याम नगर के गिरिजा नगर निवासी संतोष कुमार मिश्रा की 23 वर्षीय बेटी ज्योति 25 अक्तूबर को ऑफिस के लिए निकली, लेकिन घर नहीं लौटी। अगले दिन सुबह भाभा नगर रेलवे ट्रैक के पास उसका जला हुआ शव बरामद हुआ था। डीसीपी ईस्ट प्रमोद कुमार, एसीपी कैंट मृगांक शेकर पाठक और चकेरी थान प्रभारी मधुर मोहन ने बगैर जांच-पड़ताल के आत्महत्या घोषित कर दिया, लेकिन परिजनों को मामला संदिग्ध लगा और सवाल उठाए। इतना ही नहीं एफआईआर दर्ज कराने के लिए प्रदर्शन और थाने का घेराव तक करना पड़ा। तब जाकर चकेरी पुलिस ने मामले में आरोपी अमित कुमार और युवती विमल के खिलाफ हत्या और अपहरण समेत अन्य धाराओं में एफआईआर दर्ज की थी।

खबरें और भी हैं...