पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Kanpur
  • Kanpur HDFC Bank Employee Murder Case Update: Bank Employee Killed By Girlfriend Cousin With Iron Rod After Found In Objectionable Condition

गर्लफ्रेंड के भाई ने किया था बैंककर्मी का मर्डर:कानपुर के फ्लैट में नाबालिग प्रेमिका संग आपत्तिजनक हालत में मिला, गुस्से में लोहे की रॉड से मार डाला; ड्रम में भरकर लगाया था ठिकाने

कानपुर11 दिन पहले
उन्नाव पुरवा में नहर किनारे ड्रम में मिला था विशाल का शव।

कानपुर के नौबस्ता निवासी HDFC बैंक के कर्मचारी की नृशंस हत्या मामले में पुलिस ने खुलासा किया है। बताया जा रहा है कि नाबालिग प्रेमिका के मौसेरे भाई ने हत्याकांड को अंजाम दिया था। उसके बाद बैंक कर्मचारी के शव को ड्रम में ठूंस कर दोस्त के साथ उन्नाव में ठिकाने लगा दिया था।

कॉल डिटेल के आधार पर पुलिस ने गर्लफ्रेंड को पूछताछ के लिए उठाया था। सख्ती करने पर वह टूट गई और उसने हत्याकांड का खुलासा कर दिया। नौबस्ता थाना प्रभारी सतीश सिंह ने बताया कि आरोपी नाबालिग गर्लफ्रेंड, उसके मौसेरे भाई व दोस्त को गिरफ्तार कर लिया है।

उन्नाव में ड्रम में मिला बैंक कर्मी का शव
दरअसल, नौबस्ता मछरिया संजय नगर कॉलोनी निवासी विष्णु अग्रवाल का बेटा विशाल (26 उम्र) HDFC बैंक के लोन डिपार्टमेंट में कार्यरत था। वो 7 सितंबर को स्कूटी से दवा लेने के लिए घर से निकला और वापस नहीं लौटा। 10 सितंबर की शाम विशाल का शव उन्नाव के दही चौकी थाना क्षेत्र के पुरवा में प्लास्टिक के ड्रम में बरामद हुआ था।

आपत्तिजनक हालत में देख गर्लफ्रेंड के भाई ने लोहे की रॉड से मार डाला
पूछताछ में आरोपी गर्लफ्रेंड से पता चला कि विशाल का फीलखाना में रहने वाली 16 साल की किशोरी से प्रेम प्रसंग था। हत्याकांड वाली रात किशोरी ने विशाल को अपने फ्लैट पर डिनर पर बुलाया था। डिनर के बाद विशाल और उसकी प्रेमिका को फ्लैट पर मौजूद किशोरी के भाई ने आपत्तिजनक हालत में देख लिया था। इससे आक्रोशित होकर लोहे की रॉड से सिर पर हमला करके हत्या कर दी थी। रात भर फ्लैट पर शव रखा रहा।

इनसेट में मृतक विशाल अग्रवाल।
इनसेट में मृतक विशाल अग्रवाल।

दिमाग में आया प्लास्टिक के ड्रम वाला आइडिया
आरोपी गर्लफ्रेंड ने बताया कि शव को ठिकाने लगाने के लिए कुछ समझ नहीं आ रहा था। इसके बाद प्लास्टिक के ड्रम वाला आइडिया दिमाग में आया। सुबह भाई ने उन्नाव में रहने वाले एक दोस्त से प्लास्टिक का ड्रम मंगाया। शव को ड्रम में ठूंसने के बाद सील कर दिया था। जिससे रास्ते में कहीं खुले न और न ही खून बाहर निकले। स्कूटी से लेकर निकले तो रास्ते में इतने चौराहे पड़े, लेकिन किसी को संदेह तक नहीं हुआ। आसानी से शव को उन्नाव के शारदा नहर में जाकर फेंक दिया था।

खबरें और भी हैं...