आईआईटी कानपुर ने शुरू किया नया कोर्स:फोटोइलेक्ट्रिक इफ़ेक्ट को कहानी के जरिए पढ़ाया जाएगा

कानपुर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
फाइल फोटो - Dainik Bhaskar
फाइल फोटो

फिजिक्स के कठिन थिअरी में से एक फोटोइलेक्ट्रिक इफैक्ट को अब स्टूडेंट्स कहानी के रूप में पढ़ पाएगे। आईआईटी के वरिष्ठ वैज्ञानिक व पद्मश्री से सम्मानित प्रो एचसी वर्मा ने फोटोइलेक्ट्रिक इफैक्ट पर एक स्पेशल कोर्स तैयार किया है, जिसे कहानी का रूप दिया है। इस कोर्स में 11वीं, 12वीं के साथ बीटेक, एमटेक, बीएससी, एमएससी के छात्रों के साथ फिजिक्स पढ़ा रहे शिक्षक भी अपना रजिस्ट्रेशन करा कर इसमे शामिल हो सकते हैं।

2021 आइंस्टाइन के नोबेल पुरस्कार का शताब्दी वर्ष है...
यह वर्ष आइंस्टाइन के नोबेल पुरस्कार का शताब्दी वर्ष है। डॉ एचसी वर्मा ने बताया कि अल्बर्ट आइंस्टीन को वर्ष 1921 में नोबेल पुरस्कार से नवाजा गया था। उन्हें यह पुरस्कार मुख्य रूप से फोटोइलेक्ट्रिक इफैक्ट के नियमों की खोज के लिए ही दिया गया था। इन सिद्धांतों से ही टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में प्रकाश से विद्युत उत्पादन की अनेक विधाएं विकसित हुई। यहां तक कि भारत द्वारा पाकिस्तान पर की गयी सर्जिकल स्ट्राइक में भारत ने नाइट विजय कैमरे का प्रयोग किया गया था, घर-घर लगी सोलर पैनल भी इसी सिद्धांत पर आधारित हैं। यह कोर्स अल्बर्ट आइंस्टीन को एक श्रड़ंजाली है। साथ ही स्टूडेंट्स को इसमे कुछ अलग सीखने को मिलेगा। यह कोर्स कहानी के रूप में है, जिससे समझने वाले को आसानी होगी। उसे गंभीर गणित, गणितय विवेचना से हटकर पूरा सिद्धांत समझने का मौका मिलेगा।

आईआईटी के वरिष्ठ वैज्ञानिक प्रो एचसी वर्मा
आईआईटी के वरिष्ठ वैज्ञानिक प्रो एचसी वर्मा

15 जुलाई से शुरू हो रहा है कोर्स...
इस एक महीने के कोर्स में 12 लैक्चर होंगे। 15 जुलाई से शुरू हो रहे कोर्स के हर लैक्चर मंगलवार, गुरुवार व शनिवार को होंगे। इसमें प्रश्न पूछने व उत्तर देने की सुविधा होगी। अभ्यर्थी अपना रजिस्ट्रेशन bsc.hcverma.in वेबसाइट पर कर सकते हैं। स्टूडेंट्स को सीसीसी आईआईटी कानपुर की ओर से सर्टिफिकेट दिया जाएगा। शिक्षा सोपान संस्था की ओर से क्विज होंगे, जिसके विजेता को पुरस्कार देकर सम्मानित किया जाएगा।

खबरें और भी हैं...