• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Kanpur
  • The Team Of The Commission Understood The Whole Matter After Reaching Home, Now Action Will Be Taken In The Rape Case From The Government Level

SC-ST आयोग तक पहुंचा नाबालिग दलित से रेप केस:टीम ने घर पहुंचकर समझा पूरा मामला, अब शासन स्तर से रेपकांड में होगी कार्रवाई

कानपुर14 दिन पहले
बर्रा थाने में एससीएसटी आयोग के सदस्य डीसीपी साउथ रवीना त्यागी और एसीपी गोविंद नगर विकास पांडेय से मामले की जानकारी लेते हुए।

कानपुर के बर्रा में नाबालिग विक्षिप्त दलित किशोरी से रेप के मामले का संज्ञान लेते हुए शनिवार को एससीएसटी आयोग की टीम पीड़िता के घर बर्रा मेहरबान सिंह का पुरवा पहुंची। पीड़ित परिवार से पूरे मामले को समझा और आरोपी के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की है। इसके साथ ही टीम ने मामले की एक रिपोर्ट बनाकर शासन को भेजकर उच्च स्तरीय जांच और लापरवाही करने वाले पुलिस कर्मियों के खिलाफ भी कार्रवाई की बात कही है।

रेप का आरोपी युवक रेहान।
रेप का आरोपी युवक रेहान।

ब्लैकमेल करके डेढ़ महीने तक विक्षिप्त से रेप करता रहा आरोपी

बर्रा थाना क्षेत्र के एक गांव में इलाके के दबंग ने दलित वर्ग की नाबालिग विक्षिप्त किशोरी को बंधक बनाकर दुष्कर्म किया। इस दौरान उसका अश्लील वीडियो मोबाइल से बना लिया। इसके बाद उसे ब्लैकमेल करके यौन शोषण करने लगा। परिजनों को जानकारी होने पर उन्होंने विरोध किया तो जान से मारने की धमकी देने के साथ ही 10 मई को बेटी को अगवा कर लिया।

तब जाकर परिजनों ने इलाके में रहने वाले आरोपी मुस्लिम युवक रेहान के खिलाफ बर्रा थाने में रेप, अपहरण समेत अन्य धाराओं में एफआईआर दर्ज कराई थी। इसके बाद बर्रा थाने की पुलिस ने 12 मई को आरोपी रेहान को जेल भेजा दिया। मेडिकल जांच में किशोरी डेढ़ माह की गर्भवती निकली थी। अब मामले को एससीएसटी आयोग ने संज्ञान लिया है।

शुक्रवार दोपहर को आयोग की एक टीम पीड़िता के घर पहुंची। परिवार से मिलकर पूरे मामले की जानकारी ली। इसके बाद बर्रा थाने में मामले को लेकर एसपी साउथ रवीना त्यागी और एसीपी समेत अन्य अफसरों के साथ बैठक की। आयोग की टीम ने मामले में उच्च स्तरीय जांच कराने का भरोसा दिलाया है। इसके साथ ही मामले में लापरवाही करने वाले पुलिस कर्मियों को भी आड़े हाथों लिया है।

बर्रा पुलिस की घोर लापरवाही आई सामने

एससीएसटी आयोग की टीम ने परिजनों से पूछताछ की तो सामने आया कि बर्रा थाने की पुलिस ने आरोपी को हिरासत में लेने के बाद भी कार्रवाई करने के बाद दो दिनों तक थाने में बैठाले रही। बजरंग दल और परिजनों ने हंगामा किया तब जाकर बर्रा थाने की पुलिस ने कार्रवाई की थी। इस बात को एससीएसटी आयोग ने भी संज्ञान लिया है।