कुपोषितों के आहार से पोषित हो रहा हैलट का स्टाफ:चोरी कर घर ले जाते है खाने और पीने का सामान, वायरल वीडियो से सच्चाई आई सामने

कानपुर19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज - Dainik Bhaskar
जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज

प्रदेश में कुपोषित बच्चों के इलाज के लिए सरकार की ओर से कई योजनाएं चल रही हैं। सरकार की ओर से बच्चों को कुपोषण मुक्त करने के लिए करोड़ों रुपए का बजट सरकारी अस्पतालों को अलॉट किया जाता है। लेकिन सरकार की इस योजना को विभाग के अधिकारी व कर्मचारी ही पलीता लगा रहे हैं। सरकारी पैसे से आने वाले पोषण आहार से कुपोषण के शिकार बच्चों की जगह वे खुद को पोषित करने में लगे हैं। ताजा मामला कानपुर के जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज का है। यहां के बाल रोग विभाग में स्थापित पोषण पुनर्वास केन्द्र का एक वीडियो सामने आया है। जिसमे कुपोषित बच्चों के लिए सरकारी पैसे से आ रहे आहार को वहां का स्टाफ अपने पोषण के लिए इस्तेमाल दिख रहा है। इतना ही नहीं यहां पर बच्चों के लिए आने वाले दूध व अन्य सामान की चोरी भी की जा रही है और दूध से स्टाफ के लिए चाय कॉफी बनाता है।

कुपोषित बच्चों का दूध चोरी कर घर ले जाता है स्टाफ...
वीडियो में साफ देखा जा सकता है कि कैसे केंद्र में तैनात एक महिला कर्मचारी बच्चों के लिए फ्रिज में रखे दूध को चोरी कर घर ले जा जाती दिख रही है। इस दौरान दूध चोरी करने वाली महिला कहती है कि सात पैकेट दूध आया था, जिसमें से दो पैकेट का सामान बना दिया है। चार पैकेट रखे हैं एक पैकेट के बारे में कोई पूछे तो बता देना कि दूध फट गया था। इस दौरान किसी दूसरे कर्मचारी के सामान चोरी करने की बात भी की जा रही है। इस वीडियो के वायरल होने के बाद भी विभाग में हड़कंप मचा हुआ है।

चोरी के वीडियो के बाद विभाग हुआ सख्त...
हैलट में बने पोषण पुनर्वास केन्द्र की प्रभारी डॉ रूपा डालमिया से जब इस बारे में बात की तो उन्होंने बताया कि, बच्चों का दूध चोरी किए जाने का वीडियो मैंने देखा है। यह गंभीर मामला है, वायरल हो रहे वीडियो के आधार पर इस पूरे मामले की जांच कराई जाएगी। दोषी कर्मचारियों को सस्पेंड करके उनके खिलाफ एक्शन लिया जाएगा।

खबरें और भी हैं...