शक्तिप्रदर्शन को लेकर भिड़े भाजपाई आपस मे हुई गालीगलौज:प्रबुद्ध सम्मेलन में श्रेय लेने को लेकर एक दूसरे को देख लेने की दी धमकी, जमकर किया अपशब्दों का प्रयोग

कानपुरएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

विधानसभा चुनाव नजदीक है और भाजपा में हर दिन घमासान बढ़ती जा रही है। नया मामला सीसामऊ विधानसभा में देखने को मिला। जहां पूर्व प्रत्याशी और एक दावेदार प्रत्याशी के बीच में गाली गलौज तक हो गई। बात इस हद तक हुयी की सड़क पर निपटने तक कि धमकी दे डाली गई। विधानसभा 2017 के चुनाव में भाजपा के उम्मीदवार सुरेश अवस्थी को बनाया गया था। वह सपा के इरफ़ान सोलंकी से मामूली अंतर से चुनाव हार गए थे। 2022 के विधानसभा चुनाव को लेकर भाजपा युवा मोर्चा के पदाधिकारी रहे प्रमोद विश्वकर्मा भी दावा कर रहे हैं। इन्हीं दोनों के बीच सीसामऊ विधानसभा के होने वाले प्रबुद्ध सम्मेलन को लेकर फोन पर जमकर अपशब्दों का प्रयोग किया गया।

सुरेश अवस्थी
सुरेश अवस्थी

एक दूसरे को सड़क पर देख लेने की दी धमकी,

भाजपा में इन दिनों सभी विधानसभाओं में प्रबुद्ध सम्मेलन आयोजित किये जा रहे है। कानपुर के सीसामऊ विधानसभा का प्रबुद्ध सम्मेलन बुधवार को आयोजित होने को लेकर दोनों दावेदार तैयारियों में लगे हुये थे। तभी सुरेश अवस्थी प्रमोद विश्वकर्मा को फोन करते हैं और आरोप लगाते हैं कि उनकी होर्डिंग बैनर प्रमोद विश्वकर्मा द्वारा फाड़े जा रहे हैं, और उनको हटाया भी जा रहा है। जिस पर प्रमोद विश्वकर्मा ने इस आरोप को सिरे से खारिज किया। इसी बीच दोनों में अपशब्दों का प्रयोग शुरू हो गया। बात इस हद तक बढ़ गयी कि सड़क और देख लेने की भी धमकी दे डाली।

प्रमोद विश्वकर्मा
प्रमोद विश्वकर्मा

प्रबुद्ध सम्मेलन के उद्देश्य को तार तार करते भाजपाई

भाजपा के शीर्ष नेतृत्व प्रबुद्ध सम्मेलन के माध्यम से ओबीसी और नाराज ब्राह्मणों को मानने लगे है। वही कानपुर के भाजपा नेता इस उद्देश्य को पलीता लगाते दिख रहे है। भाजपा नेता सुरेश अवस्थी- प्रमोद विश्वकर्मा की आपसी बहन से एक बार फिर से भाजपा कानपुर जिले में दो खेमों में पार्टी बटी नजर आ रही है। शहर में जातीय समीकरण संभलने के बजाय और बिगड़ते नज़र आ रहे है।

खबरें और भी हैं...