पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

फर्रुखाबाद में विस्फोट से दहला इलाका:घर में रखे बारूद में विस्फोट, इतना तेज था धमाका कि मलबे का ढेर बन गया मकान, दो की मौत

फर्रुखाबाद3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आग बुझने के बाद पुलिस ने बुलडोजर से लोगों को मलबे के ढेर से बाहर निकाला। विस्फोट की आवाज सुन मकान के पास जुटी लोगों की भीड़। - Dainik Bhaskar
आग बुझने के बाद पुलिस ने बुलडोजर से लोगों को मलबे के ढेर से बाहर निकाला। विस्फोट की आवाज सुन मकान के पास जुटी लोगों की भीड़।

उत्तर प्रदेश के फर्रुखाबाद में सोमवार को दर्दनाक हादसा हो गया। बेचने के लिए घर में ला के रखे पटाखों में अचानक विस्फोट हो गया। विस्फोट इतना भयानक था कि पूरा गांव दहल गया। देखते ही देखते ईंट-सीमेंट से बना पक्का मकान मलबे के ढेर में बदल गया। घर के कई लोग मलबे के नीचे दब गए। कई घंटे की मशक्कत के बाद पुलिस ने मलबे में दबे लोगों को निकाला। हादसे में दो की मौत हो गई।

मलबे में दबे तीन लोगों को निकाला
घटना जिले के मेरापुर थाना क्षेत्र के गांव देवसनी की है। जहां निरंजन लाल दिवाकर ने बेचने के लिए अपने घर में पटाखों का स्टॉक रखा था। अचानक बारुद में घमाका हुआ। इसके बाद एक के बाद एक पटाखे दगने लगे, विस्फोट होने लगा। आग की लपटें उठने लगी। इन धमाकों की गूंज इतनी तेज थी कि, पड़ोसी जगदीश मास्टर के मकान की दीवार तक चटक गई। थोड़ी देर बाद ईंट-सीमेंट से बना मकान जमींदोज हो गया। इसमें निरंजन लाल का बेटा अनुराग (14) , साहबगंज निवासी अजीत जाटव (15) और राममहेश जाटव उर्फ मन्ना (30) मलबे में दब गए।

मकान में तेज धमाका होने के बाद जुटी गांव वालों की भीड़
मकान में तेज धमाका होने के बाद जुटी गांव वालों की भीड़

दो घंटे दबा रहा युवक, रास्ते में दम तोड़ा
मकान के मलबे के नीचे निरंजन लाल का बेटा अनुराग दो घंटे तक दबा रहा। पुलिस ने बुलडोजर की मद्द से युवक को मलबे के ढेर से बाहर निकाला। जिसको तुरंत इलाज के लिए सैफई रवाना किया गया, लेकिन बीच रास्ते में ही अनुराग ने दम तोड़ दिया। जबकि, अजीत जाटव का इलाज चल रहा है। वहीं, मलबे में दबने से तीसरे व्यक्ति राममहेश जाटव उर्फ मन्ना की मौत हो गई। पुलिस ने राममहेश का शव बाहर निकाला। एसपी अशोक कुमार मीणा ने बताया कि मामले की जांच कर दोषियों पर कार्रवाई की जाएगी।

घायल को इलाज के लिए सैफई रेफर किया गया।
घायल को इलाज के लिए सैफई रेफर किया गया।

सबमर्सिबल पंप चलाकर आग पर काबू पाया

आग की लपटे इतनी ऊंची थीं, कि इलाके में धुआं ही धुआं छा गया। आग की लपटों को देख आसपड़ोस के लोग चीखपुकार करने लगे। इसी बीच गांव के कुछ साहसी युवकों ने सबमर्सिबल पंप चलाकर आग पर पानी की बौछार की। इस बीच क्षेत्राधिकारी कायमगंज राजवीर ने दमकल टीम के साथ मौके पर पहुंच आग पर काबू पाया। धीरे-धीरे पानी पड़ने से आग बुझ गई। इस बीच पुलिस ने बुलडोजर लगाकर मलबे में दबे लोगों को बाहर निकाला। में पता चला है कि, दो युवक फर्रुखाबाद से बोरी में भरकर पटाखे लाए थे। उनमें विस्फोट से मकान ढह गया।