• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Kanpur
  • Under The New Education Policy, Students Are Struggling For Admission In Kanpur University, Thousands Of Students Have Applied More Than Twice Kanpur

कानपुर यूनिवर्सिटी में एडमिशन के लिए जूझ रहे स्टूडेंट्स:200 रुपए में ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन जरूरी, पर हजारों छात्रों के खाते से पैसा कटा और प्रॉसेस भी पूरा नहीं

कानपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
छत्रपति शाहू जी महाराज विश्वविद्यालय। - Dainik Bhaskar
छत्रपति शाहू जी महाराज विश्वविद्यालय।

कानपुर में छत्रपति शाहूजी महाराज विश्वविद्यालय में चल रहे ग्रेजुएशन और पोस्ट ग्रेजुएशन के प्रवेश लेने के लिए छात्र-छात्राओं को ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कराना जरूरी है, इस प्रोसेस में छात्र को ऑनलाइन 200 रुपए की पेमेंट करनी होती है तभी रजिस्ट्रेशन का प्रोसेस पूरा होता है। लेकिन इसमें बड़ा खेल चल रहा है।

कई छात्रों का कहना है कि उनके खाते से पैसा भी निकल गया और रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया भी पूरी नहीं हो पाई। ऐसा एक या दो नहीं हजारों की संख्या में छात्रों के साथ हो रहा है। इस वजह से कई छात्र अपना आवेदन नहीं करा पा रहे है। यूनिवर्सिटी प्रशासन इस पर बोलने को तैयार नहीं है।

ऑनलाइन एडमिशन से पहले रजिस्ट्रेशन का बड़ा खेल...
छत्रपति शाहू जी महाराज विश्वविद्यालय (सीएसजेएमयू) में इस सत्र से विवि के किसी भी कॉलेज में एडमिशन के लिए वेबसाइट पर छात्रों को 200 रुपए फीस के साथ अपना रजिस्ट्रेशन करवाना अनिवार्य कर दिया गया था। साथ ही छात्र जिस कॉलेज में दाखिला लेना चाहता है, उसे कॉलेज की वेबसाइट पर अलग आवेदन करना होगा। फिर कॉलेज के नियमानुसार मेरिट या पहले आओ पहले पाओ के आधार पर छात्र को दाखिला दिया जाएगा।

इस प्रोसेस में जब छात्र अपना रजिस्ट्रेशन करने के लिए पूरी डिटेल्स भरता है तो उसे आखिर में उसे 200 रुपए का पेमेंट कर इस प्रोसेस को पूरा करना होता है। लेकिन कई छात्रों के पैसे उनके खाते से कट गए है और उनका रजिस्ट्रेशन का प्रोसेस भी पूरा नहीं हुआ। कई छात्र को कई बार अपना पैसा गवां चुके हैं, लेकिन उसके बाद भी उनका एडमिशन लटका पड़ा है।

कई छात्रों के साथ हो चुके है ऐसा...
खालसा डिग्री कॉलेज की मनप्रीत कौर ने बताया कि दो बार पेमेंट होने के बावजूद रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया पूरी नहीं हुई है। मनदीप के साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ। सुतरखाना के रहने वाले दयाशंकर पांडे के साथ भी ऐसा ही हुआ। उन्होंने तीन बार आवेदन भरा लेकिन तीनों बार पैसा खाते से कट गया, लेकिन रजिस्ट्रेशन नंबर अब तक नहीं मिल पाया और न ही पैसा वापस आया। कृष्णापुरम के रहने वाले अभिषेक द्विवेदी जोकि कंप्यूटर चलना नहीं जानते है उन्होंने अपना आवेदन साइबर कैफे से करवाया, लेकिन उनका पैसा कट गया और एडमिशन भी नहीं हुआ।

कॉलेजों में भी हो रहा है ऐसा...
एक सेल्फ फाइनेंस कॉलेज के हेड क्लर्क शांतनु बाजपेई ने कहा, हमारा कॉलेज सिर्फ लड़कियों के लिए है। इस नए सिस्टम के लागू होने के बाद यहां एडमिशन लेने वाली लड़कियों का आवेदन मुझे ही करना पड़ता है, लेकिन जब से यह प्रोसेस शुरू हुआ है काम से काम 60 से 70 छात्राओं के खाते से पैसा कट गया, लेकिन रजिस्ट्रेशन नहीं हो पाया। जब दूसरे कॉलेजों से मैंने इसके बारे में पता किया तो उनके यहां भी कई छात्रों के साथ ऐसा हुआ है। अब हम लोग ऑनलाइन आवेदन कर ही नहीं रहे हैं और सीधे यूनिवर्सिटी जाकर दस्तावेज जमा करा दे रहे हैं। जिन बच्चों ने अपने आप आवेदन किया था, उनको टोल फ्री नंबर पर बात करने की सलाह दी, लेकिन वहां से भी जानकारी नहीं पा रही है।

महीनों से खराब यूनिवर्सिटी का टोल फ्री नंबर
कानपुर यूनिवर्सिटी का कॉल सेंटर का टोल फ्री नंबर 18001805199 महीनों से खराब चल रहा है। इसकी जानकारी वीसी विनय पाठक तक के पास है, लेकिन अभी तक इसको ठीक कराने के लिए कोई भी कदम नहीं उठाया जा सका है।

वीसी ने बनाई थी स्टूडेंट्स के लिए ग्रीवांस सेल
स्टूडेंट्स की शिकायतों और अन्य समस्याओं को दूर करने के लिए ग्रीवांस सेल बनाई गई थी। लेकिन वह भी सिर्फ मार्कशीट, डिग्री निकालने और नाम में गलतियों को सुधारने का काम करती है। यहां पहुंच रहे छात्रों की सुनने वाला कोई नहीं है। कई अभिभावक भी यहां आकर बात कर चुके हैं, लेकिन इस एडमिशन प्रोसेस की समस्या का कोई समाधान नहीं निकाला जा सका है।

10 सितंबर अंतिम तारीख है रजिस्ट्रेशन की
कानपुर यूनिवर्सिटी में रजिस्ट्रेशन की अंतिम तारीख पहले 31 अगस्त रखी गयी थी, लेकिन अब इसे बढ़ा कर 10 सितंबर कर दिया गया है। ऐसे में जो गरीब छात्र हैं और जो तीन बार से ज्यादा बार अपना पैसा गवां चुके है उनका क्या होगा? यह तो यूनिवर्सिटी मैनेजमेंट को ही तय करना होगा।

खबरें और भी हैं...