पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

दलित बहनों की मौत पर सियासत:प्रियंका गांधी ने कहा- परिवार को नरजबंद करने से सरकार को क्या हासिल होगा? जिग्नेश बोले- गिरफ्तारी न होने तक शव न लें

उन्नाव16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
गुजरात के निर्दलीय विधायक जिग्नेश मेवाणी व कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी। - Dainik Bhaskar
गुजरात के निर्दलीय विधायक जिग्नेश मेवाणी व कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी।
  • उन्नाव के बबुरहा गांव की तीन बच्चियों में से दो की संदेहास्पद परिस्थितियों में हुई थी मौत
  • आज मौत के कारणों की पुष्टि के लिए होगा पोस्टमार्टम, गांव में तनाव, फोर्स तैनात

उत्तर प्रदेश के उन्नाव जिले में संदेहास्पद परिस्थितियों में दलितों बहनों के मौत मामले में सियासत शुरू हो गई। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी, महासचिव प्रियंका गांधी और गुजरात के निर्दलीय विधायक जिग्नेश मेवाणी ने इस मुद्दे पर सोशल मीडिया के जरिए प्रतिक्रिया दी है। प्रियंका गांधी ने योगी सरकार पर पीड़ित परिवार को नजरबंद करने का आरोप लगाया है। वहीं, जिग्नेश ने कहा कि जब तक आरोपी पकड़े नहीं जाते हैं, तब तक परिवार बच्चियों की लाश को स्वीकार न करे। दोनों नेताओं ने जीवित बची बालिका की किसी बड़े अस्पताल में इलाज कराए जाने की मांग उठाई है।

प्रियंका गांधी ने तीसरी बच्ची को दिल्ली शिफ्ट करने की मांग की

प्रियंका गांधी ने कहा कि उन्नाव की घटना दिल दहला देने वाली है। लड़कियों के परिवार की बात सुनना एवं तीसरी बच्ची को तुरंत अच्छा इलाज मिलना जांच-पड़ताल एवं न्याय की प्रक्रिया के लिए बेहद जरूरी है।खबरों के अनुसार पीड़ित परिवार को नजरबंद कर दिया गया है। यह न्याय के कार्य में बाधा डालने वाला काम है। आखिर परिवार को नजरबंद करके सरकार को क्या हासिल होगा? यूपी सरकार से निवेदन है कि परिवार की पूरी बात सुने एवं त्वरित प्रभाव से तीसरी बच्ची को इलाज के लिए दिल्ली शिफ्ट किया जाए।

राहुल गांधी बोले-UP सरकार महिला सम्मान को कुचलती जा रही

जिग्नेश ने कहा- न्याय के लिए दबाव बनाएं

वहीं, गुजरात के निर्दलीय विधायक जिग्नेश मेवाणी ने कहा कि उत्तर प्रदेश के सभी लोगों से मेरी अपील है की जब तक उन्नाव की दुर्घटना की पीड़ित बहनों के आरोपियों को गिरफ्तार नहीं किया जाता, तब तक उनकी लाश का स्वीकार न करें, न्याय के लिए दबाव बनाएं। एक बहन की अच्छे से अच्छे अस्पताल में चिकित्सा की जाए।

गांव छावनी में तब्दील, पोस्टमार्टम के लिए बना पैनल

इस घटना के बाद से गांव में तनाव है। पीड़ित परिवार को मीडियो से मिलने नहीं दिया जा रहा है। पुलिस ने मौके पर मौजूद लोगों के बयान दर्ज किए हैं। DGP एचसी अवस्थी ने भी पुलिस अफसरों को गहराई से जांच व आरोपियों पर सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। बबुरिहा गांव पुलिस छावनी में तब्दील है। गांव के सभी रास्तों पर पुलिस ने बैरियर लगाए हैं। 9 CO, 19 थानाध्यक्ष और 70 सिपाही तैनात हैं। पोस्टमार्टम के लिए तीन डॉक्टरों का एक पैनल बनाया गया है। जिसमें शुक्लागंज CHC के प्रभारी डॉ. आशुतोष वार्ष्णेय, डॉक्टर डॉ संजीव कुमार व डॉ कौशलेंद्र शामिल हैं।

जीवित बालिका की हालत बिगड़ी, वेंटिलेटर पर शिफ्ट
कानपुर में सुबह करीब चार बजे तीसरी बेटी की अचानक हालत बिगड़ गई। उसे सांस लेने में तकलीफ होने लगी। उसे वेंटिलेटर पर रखा गया है। डॉक्टरों का कहना है कि उसकी हालत में सुधार नहीं हो रहा है।

क्या है मामला?
उन्नाव में असोहा थाना क्षेत्र के बबुरहा गांव में बुधवार की रात खेत में संदिग्ध हालत में तीन नाबालिग बहनें मिली थीं। जिनमें से दो की मौत हो गई थी। तीसरी अस्पताल में जिंदगी-मौत से जंग लड़ रही है। मुंह से झाग निकल रहा था। पुलिस की प्राथमिक जांच में जहरीला पदार्थ खाने से हालत बिगड़ने की आशंका जताई है। शुरुआत में यह खबर आई थी कि लड़कियों के हाथ पैर दुपट्टे से बंधे थे। लेकिन मृतकों की मां ने इससे इंकार कर दिया है। उन्होंने कहा कि हाथ-पैर किसी चीज से बंधे नहीं थे।

खबरें और भी हैं...

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज आर्थिक योजनाओं को फलीभूत करने का उचित समय है। पूरे आत्मविश्वास के साथ अपनी क्षमता अनुसार काम करें। भूमि संबंधी खरीद-फरोख्त का काम संपन्न हो सकता है। विद्यार्थियों की करियर संबंधी किसी समस्...

और पढ़ें