कानपुर में मिट्‌टी का टीला धंसा:मलबे में दबकर सास-बहू की मौत; 7 को बचाया, दीपक बनाने के लिए मिट्‌टी लाने पहुंचे थे सभी

कानपुर7 महीने पहले
मिट्टी का टीला धंसने से दो महिलाओं की मौत।

कानपुर में आज बड़ा हादसा हुआ। यहां सजेती थाना क्षेत्र में बुधवार सुबह मिट्टी का टीला धंसने से 9 लोग दब गए। चीख-पुकार सुनकर मौके पर पहुंचे लोगों ने मिट्‌टी हटाकर दबे लोगों को बाहर निकाला। तब तक दो महिलाओं की मौत हो चुकी थी। दोनों सास-बहू थीं।

पुलिस ने जेसीबी की मदद से मिट्टी में दबे 7 लोगों को बाहर निकाला और इलाज के लिए घाटमपुर सीएचसी में भर्ती कराया। एक परिवार की दो महिलाओं की मौत से गांव में मातम का माहौल है। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

जेसीबी की मदद से चलाया गया राहत-बचाव कार्य।
जेसीबी की मदद से चलाया गया राहत-बचाव कार्य।

सुरंग के अंदर घुसकर कर रहे थे खुदाई
बताया जा रहा है कि सजेती थाना क्षेत्र के मऊनखत गांव में 6 महिलाएं, दो किशोर और एक बुजुर्ग दीपक बनाने के लिए खेत की ओर मिट्टी लेने गए थे। ये सभी मिट्टी के टीले के नीचे छोटी सी सुरंग के अंदर घुसकर खुदाई कर रहे थे। तभी अचानक मिट्टी का टीला ढह गया, जिसमें ये सभी दब गए।

चीख-पुकार सुनकर आसपास के लोग पहुंचे और मिट्टी हटानी शुरू की। सूचना मिलने पर पहुंची पुलिस ने जेसीबी की मदद से राहत बचाव कार्य शुरू किया। पुलिस ने ग्रामीणों की मदद से 9 लोगों में से 7 को बचा लिया गया, जबकि 2 महिलाओं की मौत हो गई। पुलिस ने सभी घायलों को घाटमपुर सीएचसी में भर्ती कराया। हादसे की सूचना मिलने पर पुलिस-प्रशासनिक अधिकारी मौके पर पहुंच गए।

घायल महिला का इलाज करते डॉक्टर।
घायल महिला का इलाज करते डॉक्टर।

घायलों का अस्पताल में चल रहा इलाज
हादसे में मऊनखत गांव निवासी रामादेवी (70) और उनकी बहू अनीता (42) की मौत हो गई, जबकि टिकवांपुर गांव निवासी सितलू (70), सुकीर्ति (50), राधा (40), भोली देवी (62), गुड़िया (35), अरविंद (13) और चिल्लू (18) का इलाज चल रहा है।