कौशांबी में हुई 50वीं विज्ञान प्रदर्शनी:जूनियर में 9 व सीनियर वर्ग मे 3 मॉडल हुए चयनित, 10 अक्टूबर को प्रयागराज में प्रस्तुत करेंगे मॉडल

कौशांबी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कौशांबी में राज्य विज्ञान शिक्षा संस्थान की ओर से आयोजित 50वीं पंडित जवाहर लाल नेहरू विज्ञान गणित एवं पर्यावरण की प्रदर्शनी खत्म हो गई। शनिवार को प्रतियोगिता के नतीजे घोषित किये गए। जिसमें सीनियर वर्ग में 3 माडल व जूनियर वर्ग में 9 बच्चो के मॉडल मंडल स्तर पर चयनित हुए है। 10 अक्टूबर को चयनित प्रतिभागी प्रयागराज में अपने मॉडल प्रस्तुत करेंगे।

कई तरह के मॉडल प्रस्तुत किए गए

50वीं जवाहरलाल नेहरू विज्ञान प्रदर्शनी का आयोजन एस पी मौर्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय हररायपुर मूरतगंज में किया गया। जिसमें जिले के डेढ़ दर्जन विद्यालयों के विद्यार्थियों ने विज्ञानं गणित एवं पर्यावरण विषयों पर आधारित चलित एवं स्थिर मॉडल प्रस्तुत किए। प्रदर्शनी जूनियर संवर्ग (हाईस्कूल स्तर तक) एवम् सीनियर संवर्ग (कक्षा 11 एवं 12) मे प्रतियोगिता आयोजित की गयी। प्रदर्शनी का मुख्य विषय-प्रौद्योगिकी एवं खिलौने एवं 7 उप विषय निर्धारित किए गए थे।

कई स्कूलों ने किया था प्रतिभाग

जूनियर वर्ग में सभी सात उप विषयों से स्थिर मॉडल में प्रथम व द्वितीय तथा कार्यकारी मॉडल में प्रथम व द्वितीय का चयन मंडल स्तरीय विज्ञान प्रदर्शनी हेतु किया गया। जिसमें दुर्गा देवी इंटर कॉलेज ओसा से राहुल प्रतीक्षा सर्वेश सताक्षी सिंह अंजलि चौरसिया, राजकीय हाई स्कूल रसूलपुर बदले मूरतगंज से सोनम, हुबलाल इंटर कॉलेज से रितेश, मान सिंह इंटर कॉलेज अलीपुर जीता से पुष्पेंद्र, एनडी कॉन्वेंट स्कूल से भाव्या साहू आयुषी गुप्ता शैलजा स्टार वैली स्कूल से आयुष केसरवानी अक्षरा सोनी, एसपी मौर्य उच्चतर माध्यमिक विद्यालय से महक सिंह स्नेहा, जवाहरलाल नेहरू इंटर कॉलेज सरसवा से मीनाक्षी, एमपी कॉन्वेंट इंटर कॉलेज टिकरा मवइ से सूर्यांश त्रिपाठी का मॉडल चयनित हुआ।

10 से 12 अक्टूबर को प्रयागराज में करेंगे प्रतिभाग

सीनियर वर्ग में प्रत्येक उप विषय में उपलब्ध चलित मॉडल में प्रथम व द्वितीय का चयन मंडल स्तरीय विज्ञान प्रदर्शनी हेतु किया गया। जिसमे हुबलाल इंटर कॉलेज भरवारी से निहारिका एवं राखी, मान सिंह इंटर कॉलेज अलीपुर जीता से मुरत कुमार का मॉडल सेलेक्ट हुआ। चयनित विद्यार्थी 10 से 12 अक्टूबर तक प्रयागराज में होने वाली मंडलीय विज्ञान प्रदर्शनी में प्रतिभाग करेंगे। निर्णायक डॉ रवींद्र कुमार ने बताया, प्रदर्शनी में बच्चों को अपनी वैज्ञानिक जिज्ञासा को उजागर करने का अवसर मिलता है। जिसके जरिए विद्यार्थी अपने नवाचार पर आधारित सोच, खोज, शोध एवं विचारों को प्रदर्शित करते है।

खबरें और भी हैं...