कौशांबी में पोल पर चढ़ा संविदाकर्मी करंट से झुलसा:बोला- शटडाउन वापस किये बिना एसएसओ ने चालू की सप्लाई, विभाग के अधिकारी नहीं आए देखने

कौशांबी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कौशांबी के गोप सहसा पावर हाउस में काम करने वाला संविदा लाइनमैन करंट लगने से झुलस गया। घायल को अस्पताल में मरहम पट्टी कर छुट्टी दे गई। पीड़ित लाइनमैन का आरोप है कि पावरहाउस के एसएसओ की लापरवाही से उसे करंट लगा। उसकी जान पोल से गिरने के चलते जाने से बची है। इसके बाद भी बिजली विभाग के अधिकारी और कर्मचारी उसकी सुध लेने नहीं पहुंचे। आर्थिक दिक्कतों के चलते वह अस्पताल में इलाज नहीं करा पा रहा है।

बरमबारी मजरा गोइठा गांव निवासी मनोज विश्वकर्मा गोप सहसा पावर हाउस में संविदा लाइनमैन है। रोज की तरह वह आज काम पर आया। जिसे दोपहर दाई का पूरा गांव में बिजली की लाइन ठीक करने के लिए भेजा गया। गांव पहुंच उसने पावर हाउस के एसएसओ से शटडाउन लिया और पोल पर चढ़कर तार जोड़ने लगा।

अचानक तेज झटके के साथ मनोज बिजली के खंभे से नीचे गिर गया। उसका चेहरा गला झुलस गया था। ऊंचाई से गिरने के चलते उसे पैर कमर और अन्य जगहों पर चोट लगी। ग्रामीणों ने बिजली कर्मियों को सूचना देकर निजी अस्पताल में भर्ती कराया। जहां डॉक्टरों ने प्राइमरी उपचार करते हुए मरहम पट्टी लगा दी। इस दौरान पीड़ित काफी देर तक अस्पताल में पड़ा रहा, लेकिन उसे देखने बिजली विभाग का कोई अधिकारी व कर्मचारी नहीं पहुंचा।

कौशांबी में करंट लगने से झुलसा संविदाकर्मी।
कौशांबी में करंट लगने से झुलसा संविदाकर्मी।

रोजमर्रा के खर्च की खड़ी हुई दिक्कत
पीड़ित का कहना है कि एसएसओ की लापरवाही से उनकी जान जाते जाते बची है। बिजली अधिकारियों को उसने खुद फोन कर जानकारी दी पर उससे देखने कोई नहीं आया। अस्पताल पहुंचे परिजन उसे आर्थिक कारणों से अस्पताल से छुट्टी कराकर घर लेकर चले गए। परिवार में पत्नी और उसके दो छोटे-छोटे बच्चे है। उनके सामने अब रोजमर्रा के खर्च की दिक्कत खड़ी है।

जेई बोले- मनोज विश्वकर्मा नहीं है संविदा कर्मी
गोप सहसा जेई कपिल मिश्रा ने बताया कि मनोज विश्वकर्मा नाम का कोई संविदा कर्मी उनके पावर हाउस में तैनात नहीं है। यदि पोल पर उसे करंट लगा है तो इसका जिम्मेदार वह स्वयं है। पावर हाउस से शटडाउन दिए जाने के सवाल पर उन्होंने इसकी जांच किये जाने की बात कही है।

खबरें और भी हैं...