कौशांबी में प्रसव के दौरान जच्चा-बच्चा की मौत्:पिता बोले-दहेल के लिए ससुरालियों ने ली जान, पति समेत 4 पर FIR

कौशांबी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
यह संजना की फाइल फोटो है। इसकी मौत हो गई है। - Dainik Bhaskar
यह संजना की फाइल फोटो है। इसकी मौत हो गई है।

पिपरी थाना क्षेत्र के भगवतपुर गांव में एक जच्चा-बच्चा की मौत इलाज के दौरान हो गई। मौत के बाद लड़की पक्ष की तहरीर पर पुलिस ने पति समेत 4 लोगों पर केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। बताया जा रहा है मृतक विवाहिता की शादी अप्रैल माह में हुई थी। इसके बाद से उसे दहेज के लिए प्रताड़ित किया जा रहा था।

पिपरी के भगवतपुर निवासी सुजीत कुमार पुत्र सुरेंद्र वर्मा आभूषण व्यवसाई हैं। सुजीत की शादी तिल्हापुर मोड़ निवासी शंकर लाल की बेटी संजना (22) के साथ अप्रैल माह में हुई थी। संजना को बुधवार की रात प्रसव पीड़ा हुई। प्रसूता पत्नी को लेकर सुजीत प्रयागराज के झलवा अस्पताल पहुंचे। जहां कुछ देर भर्ती रखने के बाद वह उसे सिविल लाइंस के शकुंतला अस्पताल ले कर गए। जहां इलाज के दौरान संजना व उसकी नवजात बच्चे की मौत हो गई। अस्पताल पहुंचे मायके पक्ष के लोगो ने बेटी की मौत के पीछे साजिश का आरोप लगाया।

कौशांबी में जच्चा-बच्चा की मौत के बाद गमगीन परिवार।
कौशांबी में जच्चा-बच्चा की मौत के बाद गमगीन परिवार।

पिता ने ससुरालियों के खिलाफ दी तहरीर

पिता शंकर लाल सोनी ने बताया कि उन्होंने अप्रैल 2022 में बेटी के हाथ पीले किये थे। बेटी से बात करने के लिए उन्होंने 22 नवम्बर को फोन लगाया था, लेकिन ससुराल पक्ष ने बेटी से बात नहीं कराई। संजना की सास ने फोन कर उन्हें सोफा वापस ले जाने की बात कही। दहेज़ के लिए बेटी को कई बार प्रताड़ित किया जाता था। शंकर लाल ने पुलिस को तहरीर देकर बेटी की हत्या दहेज़ के लिए किये जाने का आरोप लगाया।

इंस्पेक्टर बोले-दर्ज कराए जा रहे बयान

इंस्पेक्टर पिपरी श्रवण सिंह ने बताया कि तहरीर के आधार पर शव को कब्जे में लेकर पोस्टमॉर्टम को भेजा जा रहा है।पति सहित 4 लोगो के खिलाफ केस दर्ज किया गया है। आरोपी व मायके पक्ष के लोगों के बयान दर्ज कराए जा रहे हैं।

खबरें और भी हैं...