कौशांबी में अगवा कर महिला से गैंगरेप:आरोपी ने खुद को भाजपा विधायक का नाती बताकर धमकाया, 4 दिनों तक मामले को दबाए रही पुलिस; महिला नहीं मानी तो दर्ज किया मुकदमा

कौशांबी3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पुलिस हिरासत में बाएं से रितिक सिंह पटेल, दीपू सिंह और आकाश तिवारी। - Dainik Bhaskar
पुलिस हिरासत में बाएं से रितिक सिंह पटेल, दीपू सिंह और आकाश तिवारी।

कौशांबी के मोहब्बतपुर पइंसा थाना क्षेत्र में टैक्सी का इंतजार कर रही महिला को अगवा कर सामूहिक दुष्कर्म का मामला सामने आया है। महिला ने शिकायत की तो पुलिस ने समझौते का दबाव बनाने की कोशिश की। महिला ने समझौते से इंकार किया तो पुलिस ने 3 युवकों को गिरफ्तार कर लिया है। गिरफ्तार किये गए युवकों में से एक खुद को बिंदकी से भाजपा विधायक करन सिंह पटेल का नाती बता रहा है, जबकि एक आरोपी करवरिया बंधुओं का रिश्तेदार बताया जा रहा है।

अकेली देख जबरन खींच लिया था कार में

जानकारी के मुताबिक 24 अगस्त को सैनी थाना क्षेत्र की एक महिला धाता फतेहपुर अपनी रिश्तेदारी में जाने के लिए टैक्सी में सवार हुई। टैक्सी चालक ने मोहब्बतपुर पइंसा थाना क्षेत्र के नारा चौराहे पर महिला को छोड़ दिया। महिला टैक्सी से उतर अगली टैक्सी का इंतजार करने लगी। करीब शाम छह बजे एक लग्जरी कार में सवार युवक रितिक सिंह पटेल, दीपू सिंह और आकाश तिवारी पहुंचे। अकेली महिला देख उसे जबरन गाड़ी में अगवा कर उसे धाता फतेहपुर के एक निजी स्कूल में लेकर पहुंचे। यहां सामूहिक दुष्कर्म किया।

युवकों ने महिला की वीडियो भी मोबाइल से बना ली। महिला की हालात बिगड़ने पर उसे वहीं छोड़ कर फरार हो गए। महिला ने बताया कि युवकों ने खुद को विधायक का रिश्तेदार बता कर कहीं शिकायत करने पर जान से मारने की धमकी दी। पीड़िता किसी तरह अपने घर पहुंची।

विधायक की गाड़ियों के साथ खड़ा हुआ आरोपी रितिक सिंह पटेल।
विधायक की गाड़ियों के साथ खड़ा हुआ आरोपी रितिक सिंह पटेल।

धमकी देने महिला के घर पहुंच गए आरोपी

26 अगस्त की दोपहर आरोपित युवक नशे की हालात में महिला का घर खोजते सैनी थाना क्षेत्र स्थित उसके घर पहुंच गए। महिला ने किसी तरह उनसे अपनी जान बचाई। आरोपित युवकों के जाने के बाद महिला ने अपने पति को पूरी बात बताई। फिर उसके साथ मोहब्बतपुर पइंसा थाना पहुंची।

पुलिस ने बनाया समझौते का दबाव

महिला द्वारा लिखित शिकायत के बाद भी पुलिस ने एक दिन बाद थाने आने को कह कर उसे टाल दिया। 27 अगस्त को दोबारा थाने पहुंचने पर पुलिस ने महिला से प्रकरण में समझौता करने का दबाव बनाया। पीड़िता किसी भी हालात में समझौते को तैयार नही हुई। मजबूरन पुलिस ने कार्यवाही शुरू की। पुलिस कार्रवाई के दौरान पुलिस को फतेहपुर के बिंदकी विधायक के दूर के नाती रितिक सिंह पटेल का नाम सामने आते ही पुलिस मामले को दबाने में जुट गई।

4 दिन बाद दर्ज किया मुकदमा

सोमवार को पुलिस ने प्रकरण में आरोपितों के खिलाफ आईपीसी की धारा 376d, 504, 506 व एससी-एसटी एक्ट की धारा में केस दर्ज कर लिया। पीड़ित महिला का मेडिकल अस्पताल में कराया गया। गिरफ्तार आरोपितों को जेल भेज दिया गया है।

सोमवार को पुलिस ने प्रकरण में आरोपितों के खिलाफ आईपीसी की धारा 376d, 504, 506 व एससी-एसटी एक्ट की धारा में केस दर्ज कर लिया।
सोमवार को पुलिस ने प्रकरण में आरोपितों के खिलाफ आईपीसी की धारा 376d, 504, 506 व एससी-एसटी एक्ट की धारा में केस दर्ज कर लिया।

जांच कर रहे दरोगा को मिली परिणाम भुगतने की धमकी

मोहब्बतपुर पइंसा थाना क्षेत्र में वारदात की जांच कर रहे सब इंस्पेक्टर को आरोपितों के करीबियों ने सुलह समझौते का दबाव बनाया। सब इंस्पेक्टर ने विभागीय कार्यवाही के डर से नाम उजागर न करने की शर्त पर कहा कि प्रकरण खत्म कराने का बहुत दबाव आया। उन्हें अंजाम भुगतने की धमकी भी दी गई है।

भाजपा विधायक ने खुद को घटना से किया अलग

फतेहपुर जिले के बिंदकी सीट से भाजपा विधायक करन सिंह पटेल ने बताया, घटना के संबंध में मुझे कोई जानकारी नही है। चूंकि वह फतेहपुर की धाता तहसील के आइमापुर गाव के रहने वाले हैं, इस लिहाज से लोग उनसे चाचा, दादा और बाबा जैसे रिश्ते जोड़ लेते है। मेरा इस प्रकरण से कोई लेना देना नही है।

खबरें और भी हैं...