कौशांबी में भाइयों ने युवक को पीटा:मां पर बंधक बनाने का लगाया आरोप, मां बोली- पैसों की वजह से नहीं करवा पाए इलाज

कौशांबी2 महीने पहले
अस्पताल में भर्ती युवक।

कौशांबी जिले के मंझनपुर के मंसूर नगर मोहल्ले से एक युवक को पुलिस ने जिला अस्पताल में भर्ती कराया है। मंगलवार को अस्पताल पहुंचे युवक ने अपनी मां समेत भाइयों पर बंधक बना कर रखने का आरोप लगाया है। पीड़ित के मुताबिक भाइयों ने मिलकर उसे डेढ़ साल पहले मारा पीटा। जब वह घायल हो गया तो उसे भाइयों ने बंधक बना कर कैद कर लिया ताकि वह उनकी शिकायत न कर सके। पीड़ित के जख्म नासूर बन गए अब वह बिस्तर से भी नहीं उठ सकता। हालांकि बेटे के आरोप पर मां ने सफाई देते हुए इलाज में गरीबी का हवाला देकर अपनी लाचारी जताई।

युवक से भाई और मां ने की मारपीट

मंसूर नगर मोहल्ले में स्व नवाब का परिवार रहता है। परिवार में पत्नी गुड़िया व उसके 5 लड़के सलमान, मटरा, फैसल, मोटा, नायब व 3 लड़की रोशनी, रुकसार, रुकसाना है। लड़कों समेत रुकसार रुकसाना की शादी हो चुकी है। रोशनी अविवाहित है। सलमान परिवार का बड़ा बेटा है। जिसके चलते वह बेकरी में काम कर अपना और अपने परिवार का भरण पोषण का जिम्मा था। मां गुड़िया बीड़ी बना कर परिवार की आर्थिक जरूरतों में मदद करती है। कोरोना काल में परिवार के बीच हुए विवाद में सलमान के अपने ही उसके दुश्मन बन गए। आरोप है कि अप्रैल 2020 को उसकी पत्नी सैनूर को उसके छोटे भाई मटरा ने रुपए न देने पर मारा पीटा। जानकारी होने पर जब सलमान घर पहुंचा तो भाई ने उसे भी मारपीट कर जख्मी कर दिया। जिसके बाद से वह आज तक बिस्तर से नहीं उठ सका। उसे भाइयों और मां ने घर के अंदर बंधक बना लिया।

1.5 साल से बिस्तर पर पड़ा था युवक

सलमान ने बताया, दोपहर जब घर में कोई नहीं था तो उसने डायल 112 पर काल कर मदद की गुहार लगाईं। पुलिस ने उसे घर वालों के चंगुल से छुड़ा कर जिला अस्पताल में भर्ती कराया है। लगातार डेढ़ साल से बेड पर पड़े रहने से उसके हाथ पैर और पीठ में जख्म हो गए है। भाइयों पर आरोप लगाते हुए कहा कि जब उसकी पत्नी और उसने आवाज उठाने की कोशिश की तो उनके साथ मारपीट की गई।

डॉ. वैभव केसरवानी ने बताया, मरीज को पुलिस अस्पताल लेकर आई है। उसके दोनों हाथ पैर व पीठ में जख्म मिले है। प्रतीत होता है कि नीम-हकीम से इलाज करा कर उसे ठीक करने की कोशिश की जा रही थी। मरीज खुद से चलने और उठ पाने से असमर्थ है। मरीज का इलाज शुरू कर दिया गया है।

मां ने कहा - भाइयों में हुई थी मारपीट

मां गुड़िया का कहना है पति की मौत के बाद बड़ी मुश्किल से बच्चों बड़ा किया। पास दवा इलाज के रुपये नहीं है। भाइयों के झगडे में सलमान को चोट लगी थी। जितना हो सका इलाज कराया, अब उसके पास समर्थ नहीं है। बंधक बनाने के सवाल पर उसने कहा कोई अपने बेटे को बंधक बनाता है क्या?

इंस्पेक्टर मंझनपुर वीके सिंह ने बताया, प्रकरण की जानकारी उनके पास नहीं है। पीड़ित ने डायल 112 से मदद मांगी है तो पुलिस ने उसे अस्पताल पंहुचा कर मदद की होगी। पीड़ित पक्ष यदि थाना पुलिस को लिखित तहरीर देता है तो जांच के बाद कानूनी कार्यवाही की जाएगी।

खबरें और भी हैं...