पत्नी की शिकायत पर पुलिस ने पीटा, मुंडवाया सिर:मां बोली- ससुराल गया था, बहू थाने पहुंच गई; फिर पुलिस ने मेरे बेटे को पीट-पीटकर अधमरा कर दिया

कौशांबी10 दिन पहले

कौशांबी में पुलिस पर एक बार फिर सवालिया निशान खड़े हो रहे हैं। इनको लेकर चर्चाओं का दौर हमेशा बना रहता है। पत्नी की शिकायत पर सिपाही ने एक युवक को जमकर पीटा है, जिससे युवक को गंभीर चोट आई है।

हद तो तब हो गई जब पुलिसकर्मी ने अपनी वर्दी का रौब झाड़ते हुए पद और ताकत का गलत प्रयोग किया और सिपाही ने उसके बाल भी मुंडवा दिए। मामले में सीओ से शिकायत की गई। बावजूद इसके सिपाही पर कोई भी कार्रवाई नहीं की गई। पीड़ित ने पूरी घटना एसपी को बताई है। दरअसल, युवक की मां ने बताया कि बेटा ससुराल गया था। जहां उसकी पत्नी ने अपने भाई के साथ मिलकर मारा-पीटा, उसके बाद बहू थाने पहुंच गई।

पति पत्नी के बीच विवाद और पुलिस
घटना सैनी कोतवाली क्षेत्र के तिलोकपुर की है। हुसैनगंज निवासी ईशान रावत उर्फ मोनू घर के निचले हिस्से में डेयरी चलाता है। शुक्रवार रात किसी बात पर मोनू का पत्नी शिल्पी से विवाद हो गया। चौकी में मौजूद सिपाही अनिल यादव ने मोनू को फोनकर बुलाया। जिसके बाद सिपाही ने युवक से कोई पूछताछ नहीं की और सीधा कमरे में बंदकर डंडे व बेल्ट से बुरी तरह पीटकर चमड़ी उधेड़ दी, इतना मारा कि वह अधमरा हो गया। मिली जानकारी में पता चला कि नाराज होकर मायके चली गई पत्नी को युवक लाने गया था। जहां पर ससुरालवालों से भी नोकझोंक हुई थी।

पीड़ित रंजीत कुमार को पुलिस ने बेल्ट से पीटा और मुंडवाया सिर
पीड़ित रंजीत कुमार को पुलिस ने बेल्ट से पीटा और मुंडवाया सिर

मां ने कहा मेरे बेटे के साथ हो रहा अन्याय
तिलोकपुर के पीड़ित रंजीत कुमार की मां ने बताया कि उसके बेटे के साथ अन्याय किया जा रहा है। पहले उसके साले और उसकी पत्नी ने उसे मारा, इसके बाद थाना ले जाकर सिपाही योगेंद्र ने जमकर मारा-पीटा। जिसकी शिकायत सीओ सीराथू और कौशांबी के कप्तान से भी की गई है, लेकिन न्याय नहीं मिला। पीड़ित परिवार ने मीडिया के माध्यम से सूबे के मुख्यमंत्री से मदद की गुहार लगाई है। पीड़ित रंजीत के भाई ने बताया की उसके भाई को लगातार उल्टी आ रही है। पेशाब के रास्ते से खून आना शुरू हो गया है, जिस्म के ऊपरी हिस्सों के अलावा अंदरूनी चोटें भी हैं। जिसका मेडिकल भी सैनी पुलिस ने अभी तक नहीं कराया है। भाई ने भी यूपी के मुखिया से न्याय की गुहार लगाई है। सिपाही और पीड़ित के परिवार के सदस्यों पर कार्रवाई की मांग की है।

मां ने बताया कि उसके बेटे के साथ अन्याय किया जा रहा है।
मां ने बताया कि उसके बेटे के साथ अन्याय किया जा रहा है।

पत्नी के झगड़े को लेकर बुलाया था चौकी
इसकी जानकारी इंस्पेक्टर को लगी तो उन्होंने सिपाही को फटकार लगाई, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की गई। आरोप है कि मोनू के शरीर से निकला खून सिपाही की पैंट पर लग गया। मोनू के होश में आते ही सिपाही बोला कि तुम्हारे खून से मेरी पैंट खराब हो गई, पैंट खराब होने से गुस्साए सिपाही ने उसके मुंह पर कई बार जूते मारे। पीड़ित युवक की मां ने एसपी से शिकायत की है।

10 साल पहले हुई थी शादी

राम मनोहर व गुलाब देवी के दो बेटे हैं। बड़े बेटे का नाम बड़ा रणजीत है। जिसकी शादी 10 साल पहले सविता देवी पुत्री राम आसरे से हुई थी। दोनों के 4 बच्चे हैं। रणजीत और सविता के परिवार के बीच महज 100 मीटर की दूरी है। रणजीत ने बताया कि कोटा राजस्थान में रहकर भीख मांगता था। उससे मिलने वाली रकम से परिवार का पालन पोषण करता है। 12 मई को वह राजस्थान से अपने घर आया था। उसने कहा कि अपने साले को कई महीने पहले 2 हजार 300 रुपये दिया था और उन पैसों को वापस मांगने के लिए अपनी पत्नी से बोला, जिसके बाद वो नाराज होकर अपने मायके चली गई। 13 मई को युवक अपनी पत्नी को बुलाने के लिए ससुराल पहुंचा। वहीं उसके साले ने उसके साथ गाली-गलौच करते हुए मारपीट कर दी।

खबरें और भी हैं...