कौशांबी में बीएससी की छात्रा का भविष्य अधर में लटका:कॉलेज प्रशासन की लापरवाही, छात्रा को नहीं देने दी गई परीक्षा

कौशांबी14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पीड़ित छात्रा शिवानी। - Dainik Bhaskar
पीड़ित छात्रा शिवानी।

कौशांबी के चायल तहसील के विश्वनाथ प्रसाद महाविद्यालय की लापरवाही से बीएससी की छात्रा का भविष्य अधर में लटका हुआ है। छात्रा का यूनिवर्सिटी प्रशासन ने प्रवेश पत्र नहीं जारी किया है।

शिवानी के मुताबिक वह डिग्री कॉलेज की रेगुलर छात्रा है। उसने पूरे साल की फीस भी जमा कर रखी है। इसके बाद भी कालेज ने उनका परीक्षा फार्म भरकर यूनिवर्सिटी नहीं भेजा। कालेज प्रशासन का कहना है कि महाविद्यालय त्रुटि के चलते छात्रा का फार्म नहीं भेजा जा सका है। इसके लिए यूनिवर्सिटी से बात कर रास्ता निकाला जा रहा है।

बीएससी सेकेंड ईयर की की छात्रा को परीक्षा में बैठने से किया मना
संदीपन घाट थाना क्षेत्र के आलमचंद्र गांव की रहने वाली शिवानी केसरवानी पुत्री विनोद केसरवानी बीएससी सेकेंड ईयर की छात्रा है। वह मूरतगंज ब्लाक के भीखमपुर स्थित विश्वनाथ प्रसाद महाविद्यालय से पढ़ाई कर रही है। शिवानी कालेज में रेगुलर छात्रा है। इसके बावजूद उसे बीएससी की सेमेस्टर परीक्षा में बैठने से रोक दिया गया।

पीड़ित छात्रा शिवानी के मुताबिक कालेज प्रशासन ने उसका यूनिवर्सिटी को भेजा जाने वाला बोर्ड फार्म इस सत्र का भरकर नहीं भेजा। जिसके चलते स्टेट यूनिवर्सिटी प्रोफ़ेसर राजेंद्र सिंह (रज्जू भैया) यूनिवर्सिटी प्रयागराज से उनका परीक्षा प्रवेश पत्र नहीं जारी हो सका। ऐसे में उनकी 20 जनवरी से शुरू हुई बीएससी सेकेंड ईयर की परीक्षा में नहीं बैठने दिया जा रहा है। जिससे उसका भविष्य अंधकार में आ गया है। उसे समझ नहीं आ रहा कि वह क्या करें। कालेज प्रशासन के लोग उसकी बात सुनने को तैयार नहीं है।

पीड़ित छात्रा शिवानी की फीस रसीद।
पीड़ित छात्रा शिवानी की फीस रसीद।

विश्वनाथ प्रसाद महाविद्यालय के प्रबंधक हरिओम केसरवानी ने बताया कि कॉलेज में लिपिकीय त्रुटि के चलते छात्रा शिवानी का परीक्षा फार्म यूनिवर्सिटी तक नहीं पंहुच सका। यूनिवर्सिटी प्रशासन से वह लगातार बातचीत कर छात्रा को परीक्षा में अनुमति दिलाने की कोशिश की जा रही है।

खबरें और भी हैं...