कौशांबी में शत्रु संपत्ति पर कार्रवाई का मास्टर प्लान तैयार:शासन के आदेश का इंतजार, अफसर बोले- जमीन मुक्त होगी कब्जेदार कोई भी हो

कौशांबी3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कौशांबी में 65 बीघे शत्रु संपत्ति की भूमि जल्द कब्जा मुक्त होकर अपने आकार मे दिखाई पड़ेगी। कार्रवाई का मास्टर प्लान तहसील प्रशासन ने तैयार कर शासन को भेजा है। विभागीय सूत्रों के अनुसार, कार्रवाई की0 0प्रक्रिया को कानूनी दांव-पेच बचाने के प्रशासन ने पूरी तैयारी कर रखी है। अफसरों का दावा है कि रिपोर्ट पर शासन से कार्रवाई की हरी-झंडी मिलते ही शत्रु संपत्ति का एक-एक गाटा संख्या खाली कराया जाएगा। फिर उसमे कब्जेदार शख्स कितना भी रसूकदार क्यों न हो।

शत्रु संपत्ति को कराया जाएगा कब्जा मुक्त।
शत्रु संपत्ति को कराया जाएगा कब्जा मुक्त।

मंझनपुर नगर पालिका क्षेत्र का एक बड़ा भूभाग पाकिस्तान जा चुके नागरिकों के नाम आज भी सरकार के दस्तावेजों मे दर्ज है। अलग अलग स्थानों को मिला दिया जाए तो इसका कुल आकार 65 बीघे का बताया जा0 रहा है। जिस पर कस्बे के रसूकदार, भूमाफिया, एवं जमीन कारोबारियों ने ऐन केन प्रकारेण अपने कब्जे मे लेकर उसमे मोटा मुनाफा ले चुके है। जिसमें सरकार को अरबों रुपये के राजस्व की हानि हो चुकी है। प्रशासनिक अफसरों ने कार्रवाई का चाबुक चला कर शत्रु संपत्ति की जमीन को कब्जा मुक्त करने की कोशिश समय-समय पर की। लेकिन कब्जेदारों ने कानूनी दांव पेच मे उलझ कर अफसरों की कार्रवाई को शिथिल करते चले आए है।

भाजपा 2.0 सरकार के मुखिया आदित्यनाथ योगी के स्पष्ट निर्देश के बाद कार्रवाई का मसौदा फिर तैयार हुआ। इस बार तहसील प्रशासन ने शत्रु संपत्ति के कब्जेदारों के खिलाफ चौतरफा घेराबंदी की है। पिछले एक माह में हुई कार्रवाई पर नजर डाले तो, अफसरों ने शत्रु संपत्ति की पैमाइश पर खूब पसीना बहाया है। चकबंदी अधिकारी, नायब तहसीलदार, तहसीलदार एवं एसडीएम स्तर के अफसरों के जरिए सरकारी दस्तावेजों के खोजबीन कराई है। सरकारी दस्तावेजों के आधार पर जमीन का सत्यापन की जिम्मेदारी नायब तहसीलदार की अध्यक्षता वाली कमेटी ने पूरी की है।

शत्रु संपत्ति को प्रशासन ने किया चिन्हित।
शत्रु संपत्ति को प्रशासन ने किया चिन्हित।

शासन के आदेश मिलने पर होगी कार्रवाई-नायब तहसीलदार
नायब तहसीलदार विनीता पांडे ने बताया, शत्रु संपत्ति की जमीनों पर कब्जे किए लोगों की संख्या करीब 100 से अधिक है, जिसमें कई लोगों ने दस्तावेजों मे हेरफेर कर जमीन की सौदेबाजी के प्रकरण सामने आए है। लेकिन उन्होंने शत्रु संपत्ति के गाटा संख्या वाले भूभाग को चिन्हित कर उसे त्रिस्तरीय जांच मे परखा है। उच्चाधिकारियों के जरिए रिपोर्ट शासन को प्रेसित कर दी गई है। कार्रवाई की हरी झंडी मिलते ही बुलडोजर कार्रवाई अमल मे लाई जाएगी।

खबरें और भी हैं...