कौशांबी में घर में मिली विवाहिता की लाश:सात माह की गर्भवती थी, मायका पक्ष बोला-25 हजार रुपये और सोने के जेवर मांग रहे थे ससुराल वाले

कौशांबी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मृतका सिवानी। - Dainik Bhaskar
मृतका सिवानी।

कौशांबी के मोहब्बतपुर पइंसा थाना क्षेत्र के मोगला गांव में विवाहिता का शव फंदे से लटकता मिला है। विवाहिता 7 माह के गर्भवती बताई जा रही है। मौत की सूचना पर पहुंचे मायके पक्ष के लोगों ने बेटी की मौत दहेज की मांग न पूरी किए जाने को बड़ी वजह बताई है। पुलिस ने तहरीर लेकर कानूनी कार्रवाई शुरू कर दी है।

सैनी थाना क्षेत्र के भेरवा गांव निवासी राजाराम ने अपनी बेटी सिवानी उर्फ़ चिंता देवी का विवाह 4 साल पहले मोहब्बतपुर पइंसा निवासी मगल पुत्र दुखराम से किया था। शादी के बाद कुछ महीनों तक सब कुछ चला। लेकिन बाद में पति पत्नी के बीच विवाद होने लगा। सिवानी के पिता राजाराम ने बताया, शुक्रवार की शाम ससुराल पक्ष ने उन्हें बताया कि बेटी के तबियत खराब है।

घर में फंदे से टंगी मिली लाश
सुबह जब वह पहुंचे तो गांव से पता चला बेटी को पोस्टमार्टम हॉउस ले गए है। उनकी बेटी की लाश घर में फंदे से टंगी मिली थी। बेटी ने कुछ दिन पहले उनसे पति सास ससुर देवर ननद पर दहेज़ में 25 हज़ार रुपये सोने की अंगूठी व् चेन लाने की मांग कर रहे थे। जिस पर उन्होंने दामाद को समझाया था। पर ससुराल वालों ने लालच में आकर बेटी की जान ले ली।

मौके पर मौजूद लोगों की भीड़।
मौके पर मौजूद लोगों की भीड़।

विवाहिता के पिता ने ससुराल पक्ष पर लगाया हत्या का आरोप
पीड़ित राजाराम ने मोहब्बतपुर पइंसा पुलिस को तहरीर देकर बेटी सिवानी की मौत का जिम्मेदार ससुराल पक्ष को ठहराया है। पीड़ित ने पति मंगल ससुर दुखराम सास धनपतिया ननद कोमल और देवर कमलेश के खिलाफ दहेज़ हत्या की शिकायत कर रिपोर्ट दर्ज किए जाने की मांग की है।

पुलिस दर्ज किया केस
प्रभारी मोहब्बतपुर पइंसा विनोद मौर्या ने बताया, ''पीड़ित पक्ष से तहरीर लेकर लाश का पीएम कराया जा रहा है। रिपोर्ट के आधार पर केस दर्ज कर आरोपी को गिरफ्तार किया जाएगा।''