कसया में खेत में मिला नवजात:शनिवार रात 2.30 बजे रोने की आवाज सुनकर लोग पहुंचे, दो दंपति अपनाने को आगे आए

कसया, कुशीनगर13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

कुशीनगर क्षेत्र के वार्ड-11 स्वामी विवेकानंद नगर (बेलवा पलकधारी सिंह) गांव के पास एक खेत में शनिवार रात 2.30 बजे नवजात मिल। बच्चे की रोने की आवाज सुनकर कुछ युवक पहुंचे तो गांव वालों को जानकार दी। सूचना पर सीएचसी से स्वास्थकर्मी पहुंच गए। एंबुलेंस से सीएचसी में भर्ती कराया, जहां पर इलाज चल रहा है। नवजात को अपनाने के लिए गांव के दो दंपति सामने आए है।

बेलवा पलकधारी सिंह गांव के पश्चिम की ओर चकरोड पर छठ बेदियों के पास स्थित खेत में किसी ने रात को कुछ ही देर पहले जन्में बच्चे को लाकर फेंक दिया था। रात में ही करीब 2:30 बजे बच्चे की रोने की आवाज सुन कर कुछ युवाओं ने खेत में जाकर देखा और शोर मचाया। मौके पर लोगों की भारी भीड़ जमा हो गयी। वहां पहुंची कुछ महिलाओं ने बच्चे के ऊपर की झिल्ली को साफ किया और बच्चे को फेंकने वालों को भला - बुरा भी कहा।

सूचना पाकर पहुंची 112 नम्बर डायल पुलिस ने नवजात शिशु को एम्बुलेंस सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र कसया भेजवाया, जहां सीएचसी अधीक्षिका की देखरेख में उसका चिकित्सकों ने इलाज कर जिला अस्पताल भेज दिया। वहां शिशु का इलाज चल रहा है। ग्रामीणों ने बताया कि कुछ निःसन्तान दंपति बच्चे को अपनाना चाहते थे, लेकिन नियम कानून में पेंच के चलते वह सफल नहीं हुए। खेत में नवजात के पाए जाने पर क्षेत्र में तरह तरह की चर्चा चल रही है।

खबरें और भी हैं...