खड्डा में निर्माण की राह देख रहा खड्डा पनियहवा मार्ग:बनने के नाम पर केवल मिले कोरे आश्वासन, आए दिन गिरकर लोग हो रहे चोटिल

खड्डा10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

खड्डा पनियहवा मार्ग विगत 5 वर्षों से बनने के 1 वर्ष के भीतर ही इतनी जर्जर हालत में हो गई है। कि इस पर बाहन तो क्या पैदल चलना भी दुश्वार हो गया है। इस सड़क पर योगी आदित्यनाथ का गड्ढा मुक्ति अभियान भी कहीं नजर नहीं आ रहा है ।तब से आज तक चुने हुए जनप्रतिनिधि इस सड़क को बनवाने के लिए आश्वासनों का घूँट ही पिला रहे हैं ।

बताते चलें कि पूर्व विधायक जटाशंकर त्रिपाठी के चुनाव जीतने के 1 वर्ष के भीतर ही इस सड़क का निर्माण हुआ इस सड़क बनने में हो रही गड़बड़ी को स्वयं विधायक ने पकड़ कर कार्य को रोक दिया था ।पुनःअच्छी सड़कें बनवाने का वादा करके ठेकेदार ने इतनी घटिया किस्म की सड़क का निर्माण कराया कि 1 वर्ष के भीतर ही सड़क टूट कर बिखर गई और ग्रामीण गड्ढा में चलने को विवश हो गए। आए दिन सड़क पर हो रही दुर्घटनाएं इस सड़क की नियत बन गई है।

प्रत्येक वर्ष खड्डा से लेकर छितौनी तक चलने वाले लोगों ने इस सड़क को बनवाने के लिए चुने हुए जनप्रतिनिधियों से आवाज उठाई। लेकिन फिर भी यह सड़क नहीं बन सकी और जनता को यह सड़क अब बन रही है तब वन रही है के आश्वासनों का घूंट ही मिला। क्षेत्र के नवनिर्वाचित विधायक विवेकानंद पांडे ने इस सड़क को बनवाने के लिए चुनाव जीतने के बाद बीड़ा उठाया लेकिन अभी इस सड़क पर कार्य शुरू नहीं हो सका है ।

इस संबंध में क्षेत्रीय विधायक विवेकानंद पांडे से लोगों ने इस सड़क निर्माण के बाबत कहा तो उनका कहना था कि यह सड़क नए तरीके से बनेगी जिसमें इस सड़क पर पड़े हुए रा मटेरियल में केमिकल मिलाकर अच्छी सड़क का निर्माण शीघ्र प्रारंभ हो जाएगा। इस सड़क के निर्माण के लिए पूर्व प्रमुख जिलाजीत यादव, ग्रामीण मुरारी यादव, विभूति सिंह मेराज अहमद, मिट्ठू अग्रवाल ,विश्वनाथ यादव, यादोलाल ,राजेश निषाद, आदि लोगों ने इस सड़क के निर्माण की मांग क्षेत्रीय विधायक विवेकानंद पांडे से किया है देखना है यह सड़क कब तक आश्वासनों के घूंट के सहारे लोगों को गड्ढे में चलने को मजबूर करेगी।

खबरें और भी हैं...