खड्डा में समाधान दिवस की उपयोगिता पर लगा प्रश्न चिन्ह:थाने पर आयोजित होने वाले समाधान दिवस मे निरंतर फरियादियों की संख्या हो रही कम

खड्डा13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

सरकार ने प्रत्येक थाना क्षेत्रों से उठ रहे विवाद का समाधान कराने के उद्देश्य से थाने पर समाधान दिवस का आयोजन करने का निर्देश दिया है। लेकिन निरंतर फरियादियों की संख्या कम होने के चलते समाधान दिवस की उपयोगिता पर प्रश्न चिन्ह लग गया है। खड्डा थाने पर शनिवार को संपन्न हुए थाना दिवस में जहां मात्र चार ही मामले पंजीकृत हुए वही इनके निस्तारण के लिए एस एच ओ ने पुलिस को निर्देशित कर आवेदन उनकी झोली में डाल दिया।

इस समाधान दिवस की कार्यप्रणाली पर गौर करें तो पुलिस और राजस्व के लेखपालों के अतिरिक्त अन्य कोई कर्मचारी मौजूद नहीं रहा ।दबी जुबान से एस एच क्यों धनवीर सिंह ने कहा कि इससे ज्यादा मामलों को तो प्रतिदिन हम निपटारा करते हैं। थाने पर आने वाले फरियादियों की निरंतर घटती संख्या समाधान दिवस की उपयोगिता पर प्रश्नचिन्ह खड़ा कर रही है या तो पुलिस के डर से फरियादी अपना आवेदन नहीं देने आ रहे हैं।

वहीं समाधान नहीं होने से फरियादी उच्च अधिकारियों के पास अपना आवेदन दे रहे हैं ।यही दोनों कारणो से प्रतीत हो रहा है कि समाधान दिवस कोरम पूर्ति का साधन बनकर रह गया है। ग्राम सभा अहिरौली निवासी इंदु देवी पत्नी पारसनाथ ने जमीनी विवाद ,रामप्रीत पुत्र जगत राय सोहरौना ने जमीन पर लकड़ी रखने का विवाद इंदल पुत्र रामधनी बरवारतनपुर ने भाई द्वारा जमीन कब्जा करने का विवाद, जितेंद्र पुत्र चांदबली ने सड़क का विवाद का आवेदन दिया जिसमें किसी का भी निस्तारण नहीं हुआ।

खबरें और भी हैं...