कुशीनगर में किसान गोष्ठी का आयोजन:रासायनिक खादों के कम प्रयोग पर दिया गया जोर, फसलों के बुआई को लेकर दी जानकारी

कुशीनगर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कुशीनगर के सिंगहा चौराहे पर रविवार को एरिज एग्रो ने किसान गोष्ठी का आयोजन किया। इस दौरान कृषि प्रसार अधिकारी भीमशंकर सिंह ने कहा कि जानकारी के अभाव में किसान जरूरत से ज्यादा मात्रा में खाद का प्रयोग कर रहे हैं, जिसके चलते धन का नुकसान तो है साथ ही पर्यावरण भी दूषित हो रहा है।

चंदौली में किसान गोष्ठी में बड़ी संख्या में लोग मौजूद रहे।
चंदौली में किसान गोष्ठी में बड़ी संख्या में लोग मौजूद रहे।

किसानों को गोष्ठी में बताया गया कि रसायनिक खाद की मात्रा कम करके आर्गैनिक खाद का प्रयोग करें तो उससे फसल और मनुष्य दोनों के लिए स्वस्थ्यवर्धक है। शरद कालीन गन्ने में बकला और तोरी की सह फसल लगा कर मुनाफा कमाया जा सकता हैं। 15 सितंबर से नवम्बर माह के अंत तक ही शरद कालीन गन्ने की बुआई करनी चाहिए।

लोगों को ऑर्गेनिक खादों का उपयोग करने के लिए कहा गया।
लोगों को ऑर्गेनिक खादों का उपयोग करने के लिए कहा गया।

किसानों को बताया गया कि स्वस्थ गन्ने को बॉस्टिन के घोल में शोधन करने के बाद ही किसान भाई उसकी बुआई करें। बुआई के 45 दिनों बाद पहली सिंचाई कर देने से सौ प्रतिशत गन्ने का अंकुरण हो जाता हैं। मानसून आने के पूर्व मिट्टी जढाकर गन्ने की बधाई करा देने से गन्ना जमीन पर गिरने से बच जाता हैं।

गेहूं, तोरी में दाने छोटे और छिल्लीदार बनने के कारणों को रोकने के लिए फसल में सल्फर और जिंक व कैल्शियम का प्रयोग खेतों में करें। तोरी में फूल आने के बाद एम45 व कार्बेन्डाजिम का छिड़काव कर फसल को ठंढ से बचाव होने के साथ साथ दाने भी अच्छे लगते हैं। किसानों को सह फसली और आर्गेनिक खाद के उपयोग के फायदे के प्रति जागरूक किया गया।

तोरी में फूल आने के बाद एम45 व कार्बेन्डाजिम का छिड़काव करें
तोरी में फूल आने के बाद एम45 व कार्बेन्डाजिम का छिड़काव करें

इस दौरान शांतिश शाही, हेमंत श्रीवास्तव, सम्पूर्णानंद मिश्र, अभिषेक शाही, प्रदुम्न तिवारी, मनोज राय, रामानंद राय, शम्भु शाही, संतोष तिवारी, राघवेन्द्र शाही, चन्दन यादव, विरेन्द्र यादव, अमरेन्द्र शाही, सुशील गुप्ता, सिंटू शाही आदि मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...