कुशीनगर में लोगों ने किया वैक्सीनेशन से इंकार:अफवाहों पर कर लिया था विश्वास, स्वास्थ्यकर्मियों ने समझा-बुझाकर किया टीकाकरण के लिए तैयार

कुशीनगरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कुशीनगर में मजदूरों को समझाने पहुंची स्वास्थ्य विभाग की टीम। - Dainik Bhaskar
कुशीनगर में मजदूरों को समझाने पहुंची स्वास्थ्य विभाग की टीम।

कुशीनगर में कोरोना की तीसरी लहर को देखते हुए सरकार ने लोगो को स्वास्थ्यकर्मियों को डोर टू डोर टीकाकरण के लिए भेज रही हैं। ताकि कोरोना के तीसरी लहर के पहले बचाव की तैयारियां पुरी हो सके। कोरोना वायरस से बचाव के लिए सरकार ने सभी लोगों को मुफ्त टीकाकरण योजना चलाई। ताकि सभी लोगो को कोरोना रोधी टीका लगाया जा सके। शुरुआती समय मे टीकाकरण को लेकर उपजी अफवाहों का असर पिछड़े इलाके के लोगों मे साफ देखा जा रहा है। बाद में स्वास्थ्यकर्मियों के समझाने पर वह लोग तैयार हुए।

डोर टू डोर जा रहे स्वास्थ्यकर्मी

जिले में चल रहे डोर टू डोर टीकाकरण अभियान के तहत मोतीचक (मथौली) ब्लाक के स्वास्थ्यकर्मीयों की टीम गाँव-गाँव जाकर लोगो का सर्वे कर टीकाकरण करा रही हैं। इसी अभियान के तहत खैरटवा स्थित ईंट भट्ठे पर काम कर रहे मजदूरों की टीकाकरण की स्थिति जानने पहुंची। स्वस्थ टीम को आता देख बिहार से आये मजदूर भागकर खेतों में छिपने लगे। कुछ कहने लगे कि हमारा टिका लग गया हैं । टीकाकरण होने का प्रमाणपत्र जब स्वास्थ्यकर्मियों ने दिखाने को कहा तो वे बहाने बनाने लगे। काफी देर स्वास्थ्यकर्मियों की टीम ने प्रयास किया पर सफल न हो सके तो उन्होंने अपने अधिकारियों को सूचना देकर चले गए।

लोगों ने कहा- सुना है टीका लगवाने से लोग मर जा रहे

कुछ ही देर में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मोतीचक(मथौली ) के वैक्सीन इंचार्ज राकेश मद्देशिया टीम के साथ कुछ स्थाननीय लोगों को लेकर पहुंचे और उनके टिका न लगवाने की वजह जानने की कोशिश की। बिहार के लखीसराय जिले से आये मजदूर संतोष सिंह ने बताया कि हमने सुना है कि बिहार में कई लोग कोरोनारोधी टीका लगवाए और मर गए इसी कारण हम नहीं लगवा रहे। इन्हीं के साथ रहने वाले एक अन्य मजदूर ने बताया कि हम ठेकेदार द्वारा बिहार से ईंट पथाई के लिए यहां लाए गए हैं। हमने अब तक कोरोना टिका का कोई डोज नहीं लिया है। क्योंकि हम लोगों ने सुना है जो भी टिका लगवाता है वह मर जाता हैं। अब हमे लोगों ने बताया कि वो सिर्फ अफवाह थी। टीकाकरण हमें खतरनाक बीमारी से बचाएगा अब हम भी टिका लगवा लेंगे।