लखीमपुर खीरी में चीनी मिल प्रबंधकों पर केस दर्ज:किसानों का 300 करोड़ रुपए हैं बकाया, आक्रोशित लोगों ने नहीं चलने दी मिल

लखीमपुर खीरी10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
लखीमपुर खीरी में बजाज चीनी मिल के प्रबंधकों पर गंभीर धाराओं में केस दर्ज। - Dainik Bhaskar
लखीमपुर खीरी में बजाज चीनी मिल के प्रबंधकों पर गंभीर धाराओं में केस दर्ज।

लखीमपुर खीरी में बजाज हिंदुस्तान शुगर चीनी मिल पलिया ने पिछले साल से किसानों के गन्ने का भुगतान नहीं किया है। उन पर तीन सौ करोड़ का बकाया है। अपनी मांगों को लेकर किसानों ने प्रदर्शन किया। साथ ही मिल चलने नहीं दी। डीएम के आदेश पर मिल प्रबंधकों के खिलाफ केस दर्ज किया गया है।

किसानों ने कहा- अब मिल को नहीं देंगे गन्ना

जिले के बजाज हिंदुस्तान शुगर मिल पलिया ने पिछले साल के गन्ने का करीब तीन सौ करोड़ रुपए का भुगतान अभी तक किसानों को नहीं किया है। किसानों भुगतान की मांग को लेकर प्रदर्शन कर रहे हैं। किसानों ने चीनी मिल को चलने नहीं दिया। किसानों की मांग थी कि अगर चीनी मिल भुगतान नहीं करती है। तो उसके खिलाफ कार्रवाई हो और वह अब गन्ना भी नहीं देंगे। किसान अपनी मांगों को लेकर पिछले कई दिनों से प्रदर्शन कर रहे थे।

धोखाधड़ी समेत कई धाराओं में केस दर्ज

मंगलवार को डीएम ने किसानों की मांग पर चीनी मिल के प्रबंधक सुनील कुमार, वित्त प्रबंधक मनोज कुमार मिश्रा और प्रदीप कुमार के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने के आदेश दिए। डीएम के आदेश पर जिला गन्ना अधिकारी ने पलिया थाने में तीनों के खिलाफ तहरीर दी। पुलिस ने तीनों मिल प्रबंधकों के खिलाफ धोखाधड़ी समेत कई संगीन धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया और मामले की जांच शुरू कर दी।

तीनों प्रबंधकों को गिरफ्तार करने की मांग

किसान नेता श्री कृष्ण वर्मा ने बताया कि मुकदमा दर्ज होने से किसानों की समस्याएं हल नहीं होंगी। किसानों का करीब 300 करोड़ रुपया बकाया है। प्रशासन उनका भुगतान कराए। किसान तभी अपना गन्ना चीनी मिल को देंगे। अगर किसानों के बकाया गन्ने का भुगतान नहीं होता है। तो प्रशासन तीनों मिल प्रबंधकों को जेल भेजे। सिर्फ मुकदमा लिखने से किसान मानने वाले नहीं है और न ही वह अपना गन्ना पलिया चीनी मिल को देंगे।