लखीमपुर-खीरी के महिला अस्पताल की बदहाली:एक रुपये में बनने वाली पर्ची पर मरीजों को नहीं मिलती अल्ट्रासाउंड रिपोर्ट की फोटो

लखीमपुर-खीरीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

लखीमपुर-खीरी के जिला महिला अस्पताल में तैनात कर्मचारियों की लापरवाही सामने आई है। यहां एक रूपये में बनने वाली अल्ट्रासाउंड की पर्ची पर रिपोर्ट और फोटो मरीजों को उपलब्ध कराई ही नहीं जाती। इस कारण यहां आने वाले मरीजों को दलाल अपने फायदे के लिए अलग से चार्ज वसूल कर अल्ट्रासाउंड करवाते हैं। बताया गया कि अस्पताल का यह सिस्टम पिछले 10 सालों से ऐसे ही चल रहा है।

काफी समय से खराब है मशीन
वरिष्ठ रेडियोलॉजिस्ट डॉ. केके रंजन बताते हैं कि जब से वह इस साल में ट्रांसफर होकर आए हैं। ना ही उन्हें प्रोफार्मा मिला है, जिसपर वे रिपोर्ट बनाकर मरीजों को उपलब्ध करा सकें। अल्ट्रासाउंड मशीन का प्रिंटर काफी समय से खराब है, जिसे ठीक नहीं कराया गया है। इससे पूर्व भी डॉक्टर नायक यहां पर बतौर रेडियोलॉजिस्ट तैनात थे, उनके समय में भी जिला महिला अस्पताल के अल्ट्रासाउंड विभाग से कभी भी निर्धारित प्रोफार्मा पर ना ही रिपोर्ट दी गई है और ना ही मरीजों को अल्ट्रासाउंड का प्रिंटआउट उपलब्ध कराया गया है।

अल्ट्रासाउंड विभाग में लगा रहता है जमावड़ा
अस्पताल सूत्र बताते हैं कि एक अल्ट्रासाउंड रिपोर्ट लिखने में डॉक्टर को करीब 10 मिनट समय लगता है। जब निर्धारित प्रोफार्मा तैयार होता है तो उसे भरने में महज 3 मिनट लगते हैं। इस समय के अंतराल के कारण अल्ट्रासाउंड विभाग में महिलाओं का जमावड़ा लगा रहता है। बताया गया कि नहीं यहां पर कुछ दलाल भी सक्रिय हैं जो महिलाओं से 200 रुपये लेकर अल्ट्रासाउंड करवाने से बाज नहीं आ रहे हैं। अस्पताल प्रशासन द्वारा इन पर शिकंजा कसना लोहे के चने चबाने जैसा है।

खबरें और भी हैं...