• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Lakhimpur kheri
  • Revealed In SIT Investigation, Lakhimpur Violence Was A Conspiracy, The Investigator Filed An Application In CJM Court To Increase The Sections, 14 Accused Including Ashish Mishra

लखीमपुर हिंसा में मंत्री के बेटे की मुश्किलें बढ़ीं:आशीष मिश्रा और उसके साथियों पर चलेगा हत्या की कोशिश का केस, धाराएं बढ़ेंगी

लखीमपुरएक महीने पहले

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर में हुई हिंसा को SIT ने सोची-समझी साजिश बताया है। SIT के जांच अधिकारी ने आरोपियों के खिलाफ धाराएं बढ़ाने के लिए कोर्ट में अर्जी दी है। कोर्ट ने ये अर्जी स्वीकार कर ली है। इससे ये साफ हो गया है कि केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे आशीष व उसके साथियों के खिलाफ दर्ज एफआईआर में हत्या की कोशिश का केस चलेगा।

कोर्ट के आदेश पर केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे आशीष मिश्रा उर्फ मोनू समेत 14 आरोपियों को कोर्ट में पेश किया गया था। एसआईटी की अर्जी को कोर्ट ने स्वीकार करते हुए एफआईआर में धाराएं बढ़ाने की मंजूरी दे दी है।

खबर मिलते ही मंत्री बेटे से मिलने पहुंचे
इससे पहले मोनू के पिता अजय मिश्रा को जैसे ही बेटे पर धाराएं बढ़ाए जाने की खबर लगी, वे दोपहर 12 बजे जेल पहुंच गए। उन्होंने बेटे को ढांढस बंधाया। इस दौरान वे मीडिया के सवालों से बचते नजर आए। मोनू समेत हिंसा के सभी 14 आरोपियों को आज CGM कोर्ट में पेश होना था, लेकिन दोपहर तक कोई भी आरोपी कोर्ट नहीं पहुंचा।

SIT के जांच अधिकारी ने कोर्ट में ये आवेदन देकर आरोपियों पर हत्या का मुकदमा चलाने की अर्जी दी है।
SIT के जांच अधिकारी ने कोर्ट में ये आवेदन देकर आरोपियों पर हत्या का मुकदमा चलाने की अर्जी दी है।

गैर इरादतन हत्या की धारा हटेगी
केंदीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा मोनू समेत 14 आरोपियों के विरुद्ध पहले धारा 279, 338, 304 ए के तहत मामला दर्ज किया गया था। जांच के बाद SIT ने इसे सोची-समझी साजिश बताया। अब जांच एजेंसी ने धारा 307, 326, 302, 34,120B,147,148,149, 3/25/30 के तहत मुकदमा चलाने के लिए कोर्ट में अर्जी दी है।

लखीमपुर में हिंसा का मुख्य आरोपी आशीष मिश्रा केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा टेनी का बेटा है।
लखीमपुर में हिंसा का मुख्य आरोपी आशीष मिश्रा केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा टेनी का बेटा है।

सुप्रीम कोर्ट में हो चुकी है तीन बार सुनवाई
लखीमपुर हिंसा मामले में सुप्रीम कोर्ट ने भी संज्ञान लिया था। अक्टूबर से लेकर अब तक तीन बार सुनवाई भी हो चुकी थी। सुप्रीम कोर्ट ने SIT को धीमी जांच के लिए फटकारा था। अब कोर्ट में SIT को जांच प्रगति की रिपोर्ट दाखिल करनी है।

पुलिस हिरासत में आरोपी सुमित जायसवाल मोदी, सत्यम त्रिपाठी, नंदन सिंह और शिशुपाल।
पुलिस हिरासत में आरोपी सुमित जायसवाल मोदी, सत्यम त्रिपाठी, नंदन सिंह और शिशुपाल।

लखीमपुर में 3 अक्टूबर को भड़की थी हिंसा
लखीमपुर में 3 अक्टूबर (रविवार) को किसानों ने केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा का विरोध करते हुए काले झंडे दिखाए थे। इसी दौरान एक गाड़ी ने किसानों को कुचल दिया था। इसमें चार किसानों की मौत हो गई थी। इसके बाद हिंसा भड़क गई थी। भड़की हिंसा के दौरान एक पत्रकार समेत 4 अन्य की भी मौत हुई थी। इस मामले में उनके बेटे आशीष मिश्रा समेत 14 लोगों के केस दर्ज किया गया था।

ये भी पढ़िए....

फंस गए मंत्री अजय मिश्र टेनी:कहा था, ' बेटा घटनास्थल पर नहीं था, साबित हुआ तो दूंगा इस्तीफा', विपक्ष बोला- अब देरी क्यों?

लखीमपुर मामले में आशीष के 3 करीबी गिरफ्तार:किसानों को कुचलने वाली थार के पीछे स्कॉर्पियो में थे ये तीनों, SIT आमना-सामना कराएगी

लखीमपुर हिंसा की इनसाइड स्टोरी:15 घंटे पहले डिप्टी CM को बाईरोड आने को कहा, कार्यक्रम से 8 घंटे पहले किया गया अलर्ट; पर नहीं बदला प्रोग्राम

खबरें और भी हैं...